13 मई का इतिहास: आजाद भारत में संसद के पहले सत्र की शुरूआत का दिन

देश के लोकतांत्रिक इतिहास में यह दिन एक मील का पत्थर है. स्वतंत्र भारत का पहला संसद सत्र 13 मई, 1952 से आहूत किया गया था.

13 मई का इतिहास: आजाद भारत में संसद के पहले सत्र की शुरूआत का दिन

आजाद भारत में संसद के पहले सत्र की शुरूआत 13 मई को हुई थी.

नई दिल्ली:

साल के बाकी दिनों की तरह इतिहास में 13 मई का भी अपना खास मकाम है. देश के लोकतांत्रिक इतिहास में यह दिन एक मील का पत्थर है. स्वतंत्र भारत का पहला संसद सत्र 13 मई, 1952 से आहूत किया गया था. तीन अप्रैल, 1952 को पहली बार उच्च सदन यानी राज्यसभा का गठन किया गया और इसका पहला सत्र 13 मई, 1952 को आयोजित किया गया. इसी तरह 17 अप्रैल, 1952 को पहली लोकसभा का गठन किया गया जिसका पहला सत्र 13 मई, 1952 को आहूत किया गया.

देश दुनिया के इतिहास में 13 मई की तारीख पर दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:-

1830: इक्वाडोर गणराज्य की स्थापना, जुआन जोस फ्लोरेंस पहले राष्ट्रपति बने.

1846 : अमेरिका और मैक्सिको के बीच पिछले एक साल से टैक्सास को लेकर चल रहे तनाव के बीच कांग्रेस ने अपने इस पड़ोसी देश के खिलाफ युद्ध का ऐलान किया.

1905 : भारत के पूर्व राष्ट्रपति फखरुद्दीन अली अहमद का जन्म.

1952 : स्वतंत्र भारत में संसद का पहला सत्र आहूत.

1960 : मैक्स इसेलीन के नेतृत्व में स्विटजरलैंड का एक खोजी दल हिमालय में धौलागिरी पर्वत शिखर पर पहुंचा.

1962 : सर्वपल्ली राधाकृष्णन देश के दूसरे राष्ट्रपति बने.

1978 : देश का पहला ध्वजवाहक जहाज आईएनएस दिल्ली सेवामुक्त हुआ.

1981 : पोप जॉन पॉल द्वितीय को तुर्की के एक नागरिक ने वेटिकन सिटी के सेंट पीटर्स स्क्वेयर में गोली मार दी. पोप इस हमले में गंभीर रूप से घायल हुए.

1995 : ब्रिटेन की एक महिला, जो दो बच्चों की मां थी, ने शेरपाओं की मदद और आक्सीजन के बिना नामे को अंजाम दिया.

1998 : विएवरेस्ट फतह करने के कारश्व भर की आलोचना और दबाव की परवाह न करते हुए भारत ने दो और परमाणु परीक्षण किए.


2001 : भारतीय साहित्‍य जगत के सबसे बड़े नामों में से एक आर के नारायण का निधन.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


2009 : यूरोपीय आयोग ने कंप्यूटर चिप बनाने वाली कंपनी इंटेल पर प्रतिद्वंद्वी कंपनी के प्रति गलत व्यावसायिक नीतियां अपनाने पर एक अरब यूरो से अधिक का इतिहास का सबसे बड़ा जुर्माना लगाया.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)