Sonu Sood से ग्रामीणों ने लगाई लंगूर को भगाने की गुहार तो एक्टर बोले- अब बंदर पकड़ना बाकी रह गया था...

लंगूर (Baboon) के आतंक से परेशान होकर सोनू सूद से गांव वालों ने मदद की गुहार लगाई है. इसका जवाब देते हुए सोनू सूद (Sonu Sood) ने लिखा कि अब बस बंदर पकड़ना ही बाकी रह गया था.

Sonu Sood से ग्रामीणों ने लगाई लंगूर को भगाने की गुहार तो एक्टर बोले- अब बंदर पकड़ना बाकी रह गया था...

सोनू सूद (Sonu Sood) से लगाई गांव वालों ने लंगूर को भगाने की गुहार

खास बातें

  • सोनू सूद से गांव वालों ने लगाई लंगूर को भगाने की गुहार
  • एक्टर ने ट्वीट कर कहा कि अब बंदर पकड़ना बाकी रह गया था
  • सोनू सूद का ट्वीट खूब हो रहा है वायरल
नई दिल्‍ली:

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) ने अपने काम से लोगों का खूब दिल जीता है. खासकर लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद लोगों के लिए मसीहा साबित हुए थे. उन्होंने प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने में खूब मदद की थी. अकसर लोग सोनू सूद से अपनी परेशानिया साझा करते हुए नजर आते हैं. वहीं, हाल ही में एक गांव के लोगों ने लंगूर के आतंक से परेशान होकर सोनू सूद से मदद की गुहार लगाई है. इसका जवाब देते हुए सोनू सूद ने लिखा कि अब बस बंदर पकड़ना ही बाकी रह गया था. सोनू सूद का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, साथ ही फैंस इसपर जमकर कमेंट भी कर रहे हैं. 

सोनू सूद (Sonu Sood) से मदद की गुहार लगाते हुए यूजर ने लिखा, "सोनू सूद सर हमारे गांव में एक लंगूर बंदर के आतंक के कारण दर्जनों लोग घायल हो चुके हैं अत: आपसे निवेदन है कि बंदर को हमारे गांव से कहीं दूर जंगल में भेजवा दीजिए." यूजर के इस ट्वीट का जवाब देते हुए सोनू सूद ने लिखा, "बस अब बंदर पकड़ना ही बाकी रह गया था दोस्त. पता भेज, यह भी करके देख ही लेते हैं." बता दें कि सोनू सूद लोगों की पढ़ाई, इलाज, काम काज, नौकरी हर चीज में मदद करते हुए नजर आते हैं. सोनू सूद की मदद के कारण कहीं गांव में उनकी मूर्ति बनाई गई तो कहीं उनकी पूजा भी की जाती है.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सोनू सूद (Sonu Sood) को लेकर हाल ही में एक शख्स ने ट्वीट भी किया था, जिसमें शख्स ने एक्टर की मदद के लिए धन्वाद भी कहा. शख्स ने अपने ट्वीट में बताया कि सोनू सूद के कारण ही उसके भाई का इलाज हो पाया है. ऐसे में उस शख्स का जवाब देते हुए सोनू सूद ने लिखा, "पैसे के कारण अगर इलाज रुकने लगे तो हम सब क्या खाक हिंदुस्तानी हैं..." बता दें कि लॉकडाउन के दौरान भी सोनू सूद ने लोगों की खूब मदद की थी. यहां तक कि उन्होंने विदेशों में फंसे छात्रों को भी प्लेन के जरिए भारत वापस बुलाया था.