'इमली' एक्ट्रेस सुम्बुल ने बताई जिंदगी से जुड़ी बातें, बोलीं- 6 वर्ष की थी तभी माता-पिता का तलाक हो गया और...

सुंबुल तौकीर खान (Sumbul Touqeer Khan) ने 'इमली' (Imli) सीरियल के जरिए ही टीवी की दुनिया में उन्होंने जबरदस्त पहचान हासिल की है.

'इमली' एक्ट्रेस सुम्बुल ने बताई जिंदगी से जुड़ी बातें, बोलीं- 6 वर्ष की थी तभी माता-पिता का तलाक हो गया और...

सुंबुल तौकीर खान (Sumbul Touqeer Khan) ने बताई जिंदगी से जुड़ी खास बातें

खास बातें

  • सुम्बुल तौकीर खान ने बताई जिंदगी से जुड़ी बातें
  • इंटरव्यू में खोला एक्ट्रेस माता-पिता के तलाक से जुड़ा राज
  • एक्ट्रेस ने कहा कि पिता और बहन ने है पाला
नई दिल्‍ली:

टीवी की दुनिया में इन दिनों 'इमली' (Imli) नाम का सीरियल खूब धमाल मचा रहा है. 'इमली' का शरारतीपन और उसकी एक्टिंग लोगों को खूब पसंद आ रही है. इमली का किरदार निभाने वाली सुंबुल तौकीर खान (Sumbul Touqeer Khan) ने इस सीरियल के जरिए ही टीवी की दुनिया में उन्होंने जबरदस्त पहचान हासिल की है. हाल ही में उन्होंने इ टाइम्स को इंटरव्यू दिया, जिसमें उन्होंने अपनी जिंदगी से जुड़ी कई चीजों का खुलासा किया. सुम्बुल तौकीर खान ने बताया कि उनके माता-पिता का बहुत पहले ही तलाक हो चुका है. वहीं, उनके पिता और उनकी बड़ी बहन ने ही उन्हें पाल पोसकर बड़ा किया है. 

सुम्बुल तौकीर खान (Sumbul Touqeer Khan) ने अपनी जिंदगी से जुड़ी चीजों के बारे में ई-टाइम्स को दिये इंटरव्यू में कहा, "मेरे पिता कई डांस रिएलिटी शो में डांस कोरियोग्राफर रह चुके हैं. और वह हमेशा से चाहते थे कि उनके बच्चे कुछ बड़ा हासिल करें. उन्होंने देखा है कि उनके बच्चे यानी मैं और मेरी बड़ी बहन को डांस में काफी रुचि है. यह देखते हुए उन्होंने साल 2016 में हमें दिल्ली से मुंबई लाकर रहने का निर्णय किया, जहां रहते हुए हम मनोरंजन की इस दुनिया में अपना भाग्य आजमा सकें. इसलिए यह एक्टिंग का कीड़ा भी मेरे पिता द्वारा ही मुझे और मेरी बहन को दिया गया था." 


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


'इमली' एक्ट्रेस सुम्बुल तौकीर खान (Sumbul Touqeer Khan) ने कहा, "मेरी बहन और मैंने दिल्ली में रहते हुए कई बार कृष्ण और राम लीला जैसे आयोजनों में हिस्सा लिया, उसके बाद से ही हम एक्टिंग की तरफ आकर्षित हुए." उन्होंने आगे बताया, "जब मैं छह साल की थी, तभी मेरे माता-पिता का तलाक हो गया था, हालांकि, जिंदगी तब अलग थी, लेकिन मुश्किल नहीं थी. मैं अपने पिता से बहुत प्यार करती हूं, जिन्होंने हमारी इतने अच्छे से देखभाल की और मेरी बहन, जिन्होंने मेरी मां और पिता दोनों का ही किरदार निभाया. मेरे पिता ही हमें स्कूल के लिए सुबह उठाते थे, हमें तैयार करते थे, हमारे लिए नाश्ता बनाते थे. हमें स्कूल भेजने के बाद ही वह स्कूल जाया करते थे. जब हम दिल्ली में थे तो मैं अपनी मां के भी बहुत करीब थी और मेरे पिता को इससे बिल्कुल भी तकलीफ नहीं थी, लेकिन जैसे ही हम मुंबई आए, मेरी मां से मेरा संपर्क टूट गया."