बाजरे के आटे में इस मसाले को 1 चम्मच मिलाकर बनाएं रोटी, यूरिक एसिड 15 दिन में हो जाएगी कंट्रोल

Millet Flour And Celery Seed For Uric : हम आपको यहां पर  बाजरे की रोटी में अजवायन मिलाकर खाना यूरिक एसिड में कैसे फायदेमंद है, उसके बारे में बताने वाले हैं. 

बाजरे के आटे में इस मसाले को 1 चम्मच मिलाकर बनाएं रोटी, यूरिक एसिड 15 दिन में हो जाएगी कंट्रोल

बाजरे की रोटी में आप अजवाइन मिलाकर खाते हैं तो आपके शरीर में बढ़ी यूरिक एसिड की मात्रा घट सकती है.

Uric acid control desi nuskha : अगर आप यूरिक एसिड जैसी बीमारी की चपेट में आ गए हैं तो फिर आपको खान पान (diet for uric acid ) में बहुत सावधानी बरतनी होगी. क्योंकि डाइट में होने वाली गड़बड़ी ही ऐसी गंभीर (cause of uric acid) बीमारी का कारण बनती है. आपको बता दें कि इस बीमारी में हड्डियों (weak bones) के बीच गैप आ जाता है, जोड़ों में दर्द (joint pain), सूजन और अकड़न होने लगती है. आपको फिजिकल वर्क करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में हम आपको यहां पर बाजरे (bajra chapati) और अजवायन (ajwain benefits) वाली रोटी खाना यूरिक एसिड में कैसे फायदेमंद है, उसके बारे में बताने वाले हैं. रोज रात में सोने से पहले करें इस तेल से तलवे की मालिश, जोड़ों के दर्द, सूजन और आंख की कमजोरी होगी दूर

बाजरे की रोटी में अजवायन मिलाकर खाने के फायदे | Benefits of eating millet flour mixed with carom seeds

1- दरअसल, बाजरे की रोटी में आप अजवाइन मिलाकर खाते हैं तो आपके शरीर में बढ़ी यूरिक एसिड की मात्रा घट सकती है. असल में बाजरे में प्यूरीन (Purine) कम होता है और फाइबर (fiber food) ज्यादा होता है, जो शरीर से यूरिक को यूरिन के सहारे बाहर निकालने में मदद करती है. असल में फाइबर युक्त फूड यूरिक एसिड को अवशोषित करने में मदद करता है. अगर आप इनका सेवन रोज करने लगते हैं, तो फिर आपके शरीर से धीरे-धीरे बढ़ा यूरिक जड़ से खत्म हो सकता है. 

2- वहीं, अजवायन में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी (anti inflammatory) गुण बॉडी के किसी भी हिस्से में होने वाले दर्द को कम करती है और सूजन (swelling) भी. यह नैचुरल तरीके से यूरिक एसिड को कम करते हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.