UGC ने विश्वविद्यालयों से कहा- "गौ विज्ञान" पर ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए छात्रों को प्रोत्साहित करें

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देश भर के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से कहा है कि वे ‘गौ विज्ञान' पर होने जा रही राष्ट्रीय स्तर की ऑनलाइन परीक्षा में छात्रों को स्वेच्छा से शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करें.

UGC ने विश्वविद्यालयों से कहा-

"गाय विज्ञान" पर ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए छात्रों को प्रोत्साहित करें: UGC

नई दिल्ली:

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देश भर के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से कहा है कि वे ‘गौ विज्ञान' पर होने जा रही राष्ट्रीय स्तर की ऑनलाइन परीक्षा में छात्रों को स्वेच्छा से शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करें. इस परीक्षा का आयोजन राष्ट्रीय कामधेनु आयोग द्वारा किया जा रहा है.

‘कामधेनु गौ विज्ञान प्रचार-प्रसार परीक्षा' 25 फरवरी को होगी, जिसके लिए कोई पंजीकरण शुल्क नहीं लिया जाएगा. इस परीक्षा में प्राथमिक विद्यालयों से लेकर माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों तथा कॉलेजों के छात्र भाग ले सकते हैं. इसके अलावा आम जनता से भी कोई व्यक्ति इस परीक्षा में शामिल हो सकता है.

राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने पांच जनवरी को एक अधिसूचना में कहा था कि इस परीक्षा का उद्देश्य सभी भारतीयों के मन में गायों के बारे में जिज्ञासा पैदा करना और उन्हें गायों की उन क्षमताओं के बारे में बताना है कि गाय अगर दूध देना बंद भी कर दे, तो भी वह व्यवसाय के कितने अवसर दे सकती है.


यूजीसी के सचिव रजनीश जैन ने कुलपतियों को लिखे पत्र में कहा है कि वे अखिल भारतीय ऑनलाइन ‘कामधेनु गौ-विज्ञान प्रसार-प्रसार परीक्षा' में स्वेच्छा से शामिल होने के लिए छात्रों को प्रोत्साहित करें.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह परीक्षा संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, पंजाबी, मराठी, कन्नड़, मलयालम, तमिल, मराठी, तेलुगू और उडिया भाषा में होगी, जिसमें वैकल्पिक प्रश्न पूछे जाएंगे.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)