Verses of War Review: भारत-पाक सैनिकों के देशभक्ति के जज्बे पर आधारित है ‘वर्सेस ऑफ वॉर’

'वर्सेस ऑफ वॉर' फिल्म दोनों देशों के बीच युद्ध और भावुक पक्ष को दिखाने का प्रयास है. यह एक शॉर्ट फिल्म है. इसमें दिखाया गया है कि दोनों देशों के सैनिक जो देश के लिए मर मिटना जानते हैं. लेकिन वो भी इंसान हैं और उनके अंदर भी मानवीय संवेदना है.

Verses of War Review: भारत-पाक सैनिकों के देशभक्ति के जज्बे पर आधारित है ‘वर्सेस ऑफ वॉर’

'वर्सेस ऑफ वॉर' में विवेक ओबेरॉय और रोहित रॉय मुख्य भूमिका में हैं

नई दिल्ली :

भारत और पड़ोसी देश पाकिस्तान के बीच टकराव आए दिन देखने को मिलता है. दोनों देश आए दिन एक दूसरे के लिए नफरत जाहिर करते रहते हैं. फिर भी एक सच्चाई यही है कि दोनों की जड़ें एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं. 'वर्सेस ऑफ वॉर' फिल्म  दोनों देशों के बीच युद्ध और भावुक पक्ष को दिखाने का प्रयास है. यह एक शॉर्ट फिल्म है. इसमें दिखाया गया है कि दोनों देशों के सैनिक जो देश के लिए मर मिटना जानते हैं और एक दूसरे के खून के प्यासे हैं. लेकिन उनके अंदर भी मानवीय संवेदना भी है. एक भारतीय सैनिक ये नहीं भूला कि कभी पाकिस्तान की सीमाएं भी उसके देश की सीमाएं थी. वहीं एक पाकिस्तानी सैनिक भी ये नहीं भूला कि भगत सिंह ने कुर्बानी दी थी, वो देश भी कभी उसी का था.

विवेक ओबेरॉय और रोहित रॉय इस फिल्म में मुख्य भूमिका में हैं. विवेक ओबेरॉय भारतीय मेजर सुनील भाटिया के रोल में हैं तो वहीं रोहित रॉय पाकिस्तानी कप्तान नवाज की भूमिका में हैं. इस फिल्म में दिखाया गया है कि दोनों देशों के सैनिकों के दिलों दिमाग में देशभक्ति की भावनाओं के पीछे  कुछ छुपी हुई भावनाएं भी जो उन्हें कहीं ना कहीं एक दूसरे से जोड़ती है.

प्रसाद कदम द्वारा निर्देशित 'वर्सेस ऑफ वॉर' भारतीय और पाकिस्तानी सैनिक विवेक आबेरॉय और रोहित रॉय के अंदर छुपे कवि को एक दूसरे से भावानात्मक तौर पर जोड़ती है. फिल्म में विवेक आबेरॉय यानी मेजर सुनील भाटिया को रोहित रॉय यानी पाकिस्तानी कप्तान नवाज की सेना पकड़ लेती है. रोहित रॉय एक पाकिस्तानी सैनिक के रोल में हैं, जो एक भारतीय सैनिक के सामने गुस्सा, नफरत और करूणा जैसी कई भावनाएं व्यक्त करता है. वहीं विवेक ओबेरॉय एक भारतीय सेना के अधिकारी के रूप में अपनी मुस्कान, आकर्षण, कवि हदय और हाजिरजवाबी के साथ पाकिस्तानी कप्तान को प्रभावित करते हैं, लेकिन भागने के दौरान शहीद हो जाते हैं. 

यह फिल्म संवादों पर आधारित है. वहीं विवेक ओबेरॉय का किरदार ऐसा लगता है, जिस पर स्माइल चिपका दी गई हो. उनके इस लुक को देखकर हाल ही में रिलीज हुए शो 'इनसाइड एज'  का उनका रोल याद आता है, जिसमें उनके चेहरे पर स्थायी मुस्कान थी. हालांकि वहीं स्माइल 'वर्सेस ऑफ वॉर' में उनकी  बहादुरी को कहीं न कहीं पीछे छोड़ देती है. हालांकि कुछ शेरो शायरी अच्छे लग सकते हैं. YouTube पर रिलीज की गई 'वर्सेस ऑफ वॉर' वन टाइम वॉच फिल्म है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


डायरेक्टर: प्रसाद कदम
स्टार कास्ट: विवेक ओबेरॉय, रोहित रॉय, शिवानी राय, लोकेश मित्तल