Kadak Singh Review: कमजोर निर्देशन के बीच फंसी पंकज त्रिपाठी की एक्टिंग, फिल्म में कुछ भी नहीं है कड़क

पंकज त्रिपाठी की फिल्म कड़क सिंह रिलीज हो चुकी है. जो खराब निर्देशन के चलते बेहद कमजोर फिल्म दिखाई देने लगाती है. कड़क सिंह भ्रष्टाचार और घोटाले को उजागर करने वाली फिल्म है, जो शुरुआत अच्छी पकड़ती है लेकिन अंत तक आते-आते औसत फिल्म बनकर रह जाती है.

Kadak Singh Review: कमजोर निर्देशन के बीच फंसी पंकज त्रिपाठी की एक्टिंग, फिल्म में कुछ भी नहीं है कड़क

Kadak Singh Review: कमजोर निर्देशन के बीच फंसी पंकज त्रिपाठी की एक्टिंग

नई दिल्ली:

पंकज त्रिपाठी बॉलीवुड के मंझे हुए कलाकारों में से एक हैं. उन्होंने फिल्मों से लेकर वेब सीरीज तक, हर जगह पर्दे पर शानदार काम किया है. पंकज त्रिपाठी की एक्टिंग की कला भी हटकर है, लेकिन इस बार एक्टर अपने फैंस को निराश कर दिया है. पंकज त्रिपाठी की फिल्म कड़क सिंह रिलीज हो चुकी है. जो खराब निर्देशन के चलते बेहद कमजोर फिल्म दिखाई देने लगाती है. कड़क सिंह भ्रष्टाचार और घोटाले को उजागर करने वाली फिल्म है, जो शुरुआत अच्छी पकड़ती है लेकिन अंत तक आते-आते औसत फिल्म बनकर रह जाती है. 

फिल्म की कहानी
कड़क सिंह की कहानी वित्तीय अपराध विभाग के ऑफिसर एके श्रीवास्तव की है, जिसको उसके बच्चे कड़क सिंह कहते हैं. फिल्म की शुरुआत बीमार एके श्रीवास्तव से होती है, जिसे थोड़ी बहुत चीजे छोड़कर कुछ भी याद नहीं है. लेकिन एके श्रीवास्तव एक चिट फंड स्कैम की जांच कर रहे थे, जिसको लेकर उनका डिपार्टमेंट जानकारी जोड़ने की कोशिश करता है. इन सबके बीच एके श्रीवास्तव अपने दिमाग पर जोर डालकर स्कैम को उजागर करने की कोशिश करता है. इन सब में कड़क सिंह कभी दर्शकों को हंसाता भी हो तो कभी स्पेंस का माहौल बनाने की कोशिश करता है. लेकिन आखिरी तक आते आते कड़क सिंह ऐसा कुछ भी करने में कामयाब नहीं हो पाता जिसे दर्शक उसे याद रख सकें. ऐसे में अच्छी एक्टिंग के बावजूद कड़क सिंह एक औसत फिल्म लगी है. 

कलाकारों की एक्टिंग
पंकज त्रिपाठी एक शानदार कलाकार हैं, इसमें कोई शक नहीं हैं. उनके अलावा कड़क सिंह में पार्वती थिरुवोथु, संजना सांघी, जया अहसन, परेश पाहुजा, वरुण बुद्धदेव, दिलीप शंकर, जोगी मलंग हैं. पंकज त्रिपाठी और संजना सांघी के अलावा किसी भी कलाकार के पास ऐसा कोई बड़ा रोल नहीं था. संजना ने कड़क सिंह की बेटी का रोल किया है, जो स्कैम को उजागर करने में पापा की मदद करती है. बाकि सभी कलाकारों ने अपने हिस्से का काम अच्छा किया है. पार्वती थिरुवोथु कहीं-कहीं आपको अच्छी दिखाई देंगी. 

निर्देशन और डायलॉग
कड़क सिंह का निर्देशन अनिरुद्ध रॉय चौधरी ने किया है. अनिरुद्ध ने पिंक जैसे शानदार फिल्म बनाई है. लेकिन कड़क सिंह में वह अपना सधा हुआ निर्देशन नहीं दिखा सके, जिसके लिए अनिरुद्ध रॉय चौधरी को जाना जाता है. फिल्म में ऐसा कोई भी डायलॉग नहीं है, जो याद किया जा सके. पंकज त्रिपाठी की फिल्म कहीं-कहीं इतनी धीमी लगती है कि अपनो नींद भी आ सकती है. हालांकि अनिरुद्ध रॉय चौधरी कड़की सिंह को अन्य तरीके से पेश कर उसे बेहतर बना सकते थे, जिसे पर्दे पर कहानी और मजबूत दिख सकती थी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

फिल्म: यात्रीज
रेटिंग: 1.5 स्टार
डायरेक्टर: अनिरुद्ध रॉय चौधरी
लेखक: रितेश शाह
कलाकार: पंकज त्रिपाठी, पार्वती थिरुवोथु, संजना सांघी, जया अहसन, परेश पाहुजा, वरुण बुद्धदेव, दिलीप शंकर, जोगी मलंग हैं. पंकज त्रिपाठी और संजना सांघी