विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Sep 13, 2022

IAS Success Story: स्लम में रहने वाली Ummul Khair ने 16 फ्रैक्चर और 8 सर्जरी के बावजूद भी क्रैक कर ली UPSC

IAS Success Story of Ummul Khair: सर से छत छीन गया, फ्रैजाइल डिसऑर्डर के कारण टूट जाती थी हड्डियां फिर भी हार न मानते हुए Ummul Khairने UPSC क्रैक करके इतिहास रच दिया. पढ़ें उनकी सफलता की मोटिवेशन से भरी कहानी.

Read Time: 3 mins
IAS Success Story: स्लम में रहने वाली Ummul Khair ने 16 फ्रैक्चर और 8 सर्जरी के बावजूद भी क्रैक कर ली UPSC
IAS Success Story of Ummul Khair: यह कहानी एक ऐसे आईएएस ऑफिसर उम्मुल खैर (Ummul Khair) की है जिनकी कहानी सुनकर आपके अंदर जोश भर जाएगा और अपनी परेशानियां कम लगने लगेंगी.

IAS Success Story of Ummul Khair: उम्मुल खैर बहुत छोटी थीं जब उनका परिवार दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके की एक झुग्गी बस्ती में निवास करता था. उसके पिता एक स्ट्रीट वेंडर थे जो घर चलाने के लिए कपड़े बेचा करते थे. जब परिवार का जीवन चल पाना अपने आप में अत्यंत कठिन हो गया तभी उनके परिवार को एक और संकट का सामना करना पड़ा. जब दिल्ली सरकार के एक आदेश ने उस झुग्गी को भी ध्वस्त कर दिया जहां वे रहते थे. घर टूट जाने के बाद उम्मुल का परिवार त्रिलोक पुरी इलाके की एक अन्य झुग्गी बस्ती में चला गया. आज सक्सेस स्टोरी की यह कहानी एक ऐसे आईएएस ऑफिसर उम्मुल खैर (Ummul Khair) की है जिनकी कहानी सुनकर आपके अंदर जोश भर जाएगा और अपनी परेशानियां कम लगने लगेंगी. 

लेटेस्ट जॉब वैकेंसी डिटेल्स देखें

फ्रैजाइल डिसऑर्डर के कारण टूट जाती थी हड्डियां 

राजस्थान के पाली में पैदा हुई उम्मुल खैर (Ummul Khair) फ्रैजाइल डिसऑर्डर की शिकार थीं, इसके कारण इंसान की हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और आसानी से टूट जाती है. जिस खतरनाक बीमारी से वह पीड़ित थी, उसकी वजह से उसके 16 फ्रैक्चर और 8 सर्जरी हुई थीं.

पर्सनालिटी डेवलपमेंट टिप्स 

बीमारी को नहीं बनने दी कमजोरी 

हौसले से बढ़कर कुछ नहीं होता और ये बात किसे मालुम थी कि एक लड़की जो व्हील चेयर पर है वो एक दिन न सिर्फ अपने माता-पिता बल्कि अपने शहर और राज्य को गौरवान्वित करेगी. इतना ही नहीं, उम्मुल खैर (Ummul Khair) भारत की लाखों युवा लड़कियों के लिए भी प्रेरणा बनेंगी. इस बात में कोई संदेह नहीं है कि बचपन से आईएएस अधिकारी बनने तक का सफर संघर्ष से भरा रहा. झुग्गी-झोपड़ी में रहने से उनके लिए यूपीएससी की तैयारी करना और भी मुश्किल हो गया था. उसके परिवार की आर्थिक स्थिति स्थिर नहीं थी, जिस कारण उन्होंने बहुत कम उम्र में ट्यूशन लेना शुरू कर दिया था.

करियर ऑप्शन देखें

ट्यूशन पढ़ाकर भर्ती थी फीस 

उम्मुल अपनी स्कूल की फीस ट्यूशन से कमाए पैसों से देती थी. उम्मुल खैर (Ummul Khair) ने कक्षा 10 में 91% और कक्षा 12 में 89% अंक प्राप्त किए थे. दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक करने के बाद उम्मुल ने जेएनयू से अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में एमए किया और फिर एमफिल/पीएचडी में प्रवेश ले लिया और इसके साथ ही उन्होंने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी. अपनी कड़ी मेहनत के कारण, उन्होंने 2017 में पहले ही प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली और अपने आईएएस बनाने का सपना पूरा कर लिया. पूरे भारत में 420वीं रैंक प्राप्त करके उम्मुल खैर (Ummul Khair) एक आईएएस अधिकारी बन गईं. आज उनकी कहानी उनके जैसे हजारों लोगों के लिए प्रेरणा है.

NDTV.in पर ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें, व देश के कोने-कोने से और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Railway Bharti 2024: पूर्वोत्तर रेलवे ने 10वीं पास युवाओं के लिए निकाली बंपर भर्ती, एक हजार से ज्यादा पद, बिना परीक्षा होगा चयन 
IAS Success Story: स्लम में रहने वाली Ummul Khair ने 16 फ्रैक्चर और 8 सर्जरी के बावजूद भी क्रैक कर ली UPSC
UKPSC उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने निकाली भर्ती, एसआई के 222 पदों के लिए 20 तक आवेदन करें
Next Article
UKPSC उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने निकाली भर्ती, एसआई के 222 पदों के लिए 20 तक आवेदन करें
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
;