CBSE 12TH EXAM TIMELINE: पहले आई डेटशीट, फिर एग्जाम पोस्‍टपोन और अब कैंसिल, यहां पढ़ें कब क्या हुआ

CBSE 12th exam Timeline :मोदी सरकार ने कक्षा 12वीं की परीक्षा को रद्द कर दिया है. यहां पढ़ें की पूरी टाइमलाइन.

CBSE 12TH EXAM TIMELINE: पहले आई डेटशीट, फिर एग्जाम पोस्‍टपोन और अब कैंसिल, यहां पढ़ें कब क्या हुआ

नई दिल्ली:

CBSE BOARD 12TH EXAM 2021 TIMELINE: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंड्ररी एजुकेशन (CBSE) कक्षा 12वीं की परीक्षा को केंद्र सरकार ने रद्द कर दिया है. लंबे समय से छात्र 12वीं की परीक्षा रद्द करने की मांग कर रहे थे, लेकिन परीक्षा को लेकर कोई फैसला आ ही नहीं रहा था, आखिरीकार आज छात्रों ने चैन की सांस ली. आइए ऐसे में जानते हैं CBSE 12वीं की परीक्षा से जुड़ी टाइमलाइन. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई एक बैठक में यह फैसला लिया गया. इसके बाद आईसीएसई बोर्ड ने भी एग्जाम रद्द करने का ऐलान कर दिया.

जब कहा- मई में होंगी 12वीं की परीक्षा

साल की शुरुआत, में सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के लिए पहले डेट शीट जारी कर दी थी.  डेटशीट के अनुसार 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं 4 मई से शुरू होने वाली थी. 10वीं की परीक्षाएं 7 जून तक, जबकि 12वीं की परीक्षाएं 11 जून तक चलने वाली थी.

सीबीएसई ने पहले ही बता दिया था,  10वीं-12वीं  बोर्ड परीक्षाएं ऑनलाइन नहीं, लिखित माध्यम में आयोजित की जाएंगी. कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए देशभर में वर्ष 2020 में स्कूल बंद कर दिए गए थे. कुछ राज्यों में इन्हें 15 अक्टूबर से आंशिक तौर पर खोल दिया गया था.

10वीं की परीक्षा रद्द और 12वीं की स्थगित

अप्रैल महीने में कोरोना वायर की दूसरी लहर आ जाने के बाद  केस में बढ़ोतरी हुई, जिसके बाद CBSE की बोर्ड परीक्षाओं को लेकर केंद्र सरकार ने अहम फैसला लिया है. सीबीएसई ने जहां  कक्षा 10वीं की परीक्षा को रद्द कर दिया वहीं, 12वीं की परीक्षाओं को स्थगित करने का फैसला लिया था.

बता दें, बोर्ड परीक्षाओं को लेकर 14 अप्रैल 2021 को शिक्षा मंत्रालय  और CBSE अधिकारियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  की बैठक हुई, जिसमें यह फैसला लिया गया है. देश में कोरोना महामारी से उत्पन्न मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर केंद्र सरकार ने यह निर्णय लिया है.

आयोजित की गई CBSE की प्रैक्टिकल परीक्षाएं

CBSE ने अपने संबद्ध स्कूलों को कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की प्रैक्टिकल परीक्षा और अन्य एक्टिविटीज़ जैसे- प्रोजेक्ट और इंटरनल असेसमेंट का संचालन 1 मार्च से 11 जून तक करने के लिए कहा था. बोर्ड ने स्कूलों को प्रैक्टिकल कोविड-सेफ्टी प्रोटोकॉल को ध्यान में रखकर कराने का निर्देश दिया था.

बिना परीक्षा के ऐसे होगी 10वीं की परीक्षा का मूल्यांकन, 20  जून को जारी होगा रिजल्ट

CBSE की ओर से 10वीं का रिजल्ट 20 जून को जारी किए जाने की घोषणा की जा चुकी है. सीबीएसई 10वीं बोर्ड परीक्षा 2021 के प्रत्येक विषय के लिए अधिकतम 100 अंकों का मूल्यांकन किया जाएगा.

इसमें 20 अंक आंतरिक मूल्यांकन के लिए और 80 अंक साल के अंत में बोर्ड परीक्षा के लिए आवंटित किए जाएंगे. स्कूल-आधारित मूल्यांकन और वेटेज के लिए जिन परीक्षाओं का उपयोग किया जाएगा, उनमें पीरियोडिक टेस्ट या यूनिट टेस्ट (10 अंक), अर्धवार्षिक या मध्यावधि परीक्षा (30 अंक) और प्री-बोर्ड परीक्षा (40 अंक) शामिल हैं.

जब छात्रों ने CBSE 12वीं की परीक्षा को रद्द करने के लिए बुलंद की आवाज

CBSE ने जहां 10वीं की परीक्षा रद्द की, वहीं पहले 12वीं की परीक्षा स्थगित कर दी थी, लेकिन छात्र इस बात से  नाखुश थे. वह लगातार सोशल मीडिया पर 12वीं की परीक्षा रद्द करने की मांग करते हुए  #cancel12thboardexams2021 का हैशटैग चला रहे थे. आखिरकार छात्रों की मेहनत सफल हुई अरविंद केजरीवाल ने मोदी सरकार को शुक्रिया कहते हुए कहा,  'मुझे खुशी है कि 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी गई है. हम सभी अपने बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर बहुत चिंतित थे. एक बड़ी राहत है'

31 मई को केंद्र सरकार ने कहा था, कुछ दिनों में देंगे फैसला

सुप्रीम कोर्ट में  केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) और काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (CISCE) 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने की मांग वाली याचिका 31 मई को सुनवाई होनी थी, लेकिन इसे 3 जून तक के लिए स्थगित कर दिया गया था.  31 मई को  केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि सरकार अगले कुछ दिनों में 12वीं बोर्ड परीक्षाओं पर अंतिम फैसला लेगी. सरकार ने आज फैसला लेते हुए कहा कि CBSE बोर्ड की परीक्षा रद्द कर दी गई है. वहीं CBSE के बाद  ICSE बोर्ड ने भी 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी है.  हालांकि क्रेंद सरकार ने जल्दी फैसला दे दिया है.


जब दिल्ली सरकार ने कहा, पहले वैक्सीन फिर परीक्षा

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 23 मई  को केंद्र को बताया कि छात्रों का टीकाकरण करने से पहले कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षा आयोजित करना एक बड़ी गलती साबित हो सकती है. सिसोदिया ने यह सुझाव शिक्षा मंत्रालय द्वारा बुलाई गई एक उच्च स्तरीय बैठक में दिया था, जो 23 मई को हुई  थी.

उन्होंने कहा था, डेढ़ करोड़ बच्चे 12वीं में हैं. आज देश में वैक्सीन उपलब्ध है जो युवाओं के लिए कारगर बताई जा रही है और विदेशों में भी वैक्सीन उपलब्ध है जो 12 से 18 साल के बच्चों के लिए कारगर घोषित हो चुकी है.

खबरों की खबर: CBSE/ICSE बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं रद्द, छात्रों को मिली राहत


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com