पिछले आठ साल में अंडर ग्रेजुएट मेडिकल सीटों की संख्या में 75 प्रतिशत का इजाफा हुआ

मांडविया ने कहा, ‘‘यूजी (स्नातक पढ़ाई करने वाले छात्रों के) सीटों की संख्या वर्ष 2014 से पहले 51,348 थी जो अब बढ़कर 89,875 सीटें हो गई है. यह 75 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाती है.

पिछले आठ साल में अंडर ग्रेजुएट मेडिकल सीटों की संख्या में 75 प्रतिशत का इजाफा हुआ

मेडिकल सीटों की संख्या अब 89,875 हो गई

नई दिल्ली:

सरकार ने मंगलवार को कहा कि अंडर-ग्रेजुएट (स्नातक) मेडिकल सीटों की संख्या वर्ष 2014 से पहले 51,348 थी जो अब बढ़कर अब 89,875 सीटें हो गई है और यह 75 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है. इस दौरान स्नातकोत्तर सीटों में भी 93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि जो छात्र एमबीबीएस करने और विदेशी चिकित्सा योग्यता प्राप्त करने के लिए विदेश जाते हैं, उन्हें भारत में चिकित्सा व्यवसायी के रूप में पंजीकृत होने के लिए विदेशी चिकित्सा स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है.

मंत्री ने कहा कि सरकार ने देश में डॉक्टरों की संख्या को और बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए हैं. मांडविया ने कहा, ‘‘यूजी (स्नातक पढ़ाई करने वाले छात्रों के) सीटों की संख्या वर्ष 2014 से पहले 51,348 थी जो अब बढ़कर 89,875 सीटें हो गई है. यह 75 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाती है. पीजी (स्नातकोत्तर पढ़ाई करने वाले) सीटों की संख्या वर्ष 2014 से पहले 31,185 थी जो बढ़कर अब 60,202 हो गई है.''

सीटों की संख्या बढ़ाने के लिए उठाए गए कदमों में जिला/रेफरल अस्पतालों का उन्नयन करके नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना के लिए केंद्र प्रायोजित योजना शामिल है, जिसके तहत 157 नए मेडिकल कॉलेज स्वीकृत किए गए हैं और 71 पहले से ही कार्यरत हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इसमें एमबीबीएस और पीजी सीटों को बढ़ाने के लिए मौजूदा राज्य सरकार या केंद्र सरकार के मेडिकल कॉलेजों के सुदृढ़ीकरण या उन्नयन के लिए एक केंद्र प्रायोजित योजना और सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक के निर्माण द्वारा सरकारी मेडिकल कॉलेजों के उन्नयन करने की एक केंद्रीय योजना भी शामिल है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)