HDFC और HDFC बैंक के विलय के प्रस्ताव को शेयर बाजार से मिली हरी झंडी

HDFC बैंक ने बताया कि उसे बीएसई लिमिटेड से ‘‘किसी भी प्रतिकूल टिप्पणी के बिना’’ अवलोकन पत्र और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड से ‘‘अनापत्ति’’ के साथ अवलोकन पत्र मिला है.

HDFC और HDFC बैंक के विलय के प्रस्ताव को शेयर बाजार से मिली हरी झंडी

नई दिल्ली:

HDFC के HDFC बैंक के साथ विलय के प्रस्ताव को शेयर बाजारों की मंजूरी मिल गई है. यह देश के कॉरपोरेट इतिहास में सबसे बड़ा लेनदेन है. HDFC और HDFC बैंक, दोनों को दोनों स्टॉक बाजारों से अनापत्ति मिल गई है. HDFC बैंक ने बताया कि उसे बीएसई लिमिटेड से ‘‘किसी भी प्रतिकूल टिप्पणी के बिना'' अवलोकन पत्र और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड से ‘‘अनापत्ति'' के साथ अवलोकन पत्र मिला है.

HDFC और PNB के ग्राहकों को झटका, कर्ज की दरें बढ़ने से ईएमआई पर पड़ेगा असर

HDFC बैंक ने कहा कि यह योजना अन्य बातों के साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक, भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग, राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण और योजना में शामिल कंपनियों के संबंधित शेयरधारकों और लेनदारों से मंजूरी सहित विभिन्न वैधानिक और नियामक अनुमोदनों के अधीन है.

Share Markets : बाजार में गिरावट बरकरार, Nifty 17,800 पर आया; HDFC-HDFC Bank को सबसे ज्यादा नुकसान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इससे पहले चार अप्रैल को देश की सबसे बड़ी आवास वित्त कंपनी एचडीएफसी लिमिटेड का निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी बैंक में विलय का फैसला लिया गया था. करीब 40 अरब डॉलर के इस अधिग्रहण सौदे से वित्तीय सेवा क्षेत्र की एक बड़ी कंपनी अस्तित्व में आएगी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)