Share Market : शेयर बाजारों के लिए गिरावट भरा रहा दिन, HDFC और रिलायंस शेयरों को बड़ा नुकसान

Sensex, Nifty today: आज शेयर बाजारों में काफी गिरावट देखी गई. सेंसेक्स 182.75 अंक यानी 0.35 प्रतिशत की गिरावट के साथ 52,386.19 अंक पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी भी 38.10 अंक यानी 0.24 प्रतिशत टूटकर 15,689.80 अंक पर बंद हुआ.

Share Market : शेयर बाजारों के लिए गिरावट भरा रहा दिन, HDFC और रिलायंस शेयरों को बड़ा नुकसान

शेयर बाजार में गिरावट भरा रहा दिन, सेंसेक्स 183 अंक नीचे आकर बंद.

नई दिल्ली:

Stock Market Updates : बीएसई सेंसेक्स में शुक्रवार को 183 अंक की गिरावट आयी. मानक सूचकांक में मजबूत हिस्सेदारी रखने वाले एचडीएफसी बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टीसीएस में नुकसान के साथ बाजार नीचे आया.
तीस शेयरों पर आधारित सूचकांक 182.75 अंक यानी 0.35 प्रतिशत की गिरावट के साथ 52,386.19 अंक पर बंद हुआ.
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 38.10 अंक यानी 0.24 प्रतिशत टूटकर 15,689.80 अंक पर बंद हुआ.

सेंसेक्स के शेयरों में करीब 2 प्रतिशत की गिरावट के साथ बजाज ऑटो का शेयर सर्वाधिक नुकसान में रहा. इसके अलावा, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टेक महिंद्रा का स्थान रहा. दूसरी तरफ, टाटा स्टील, बजाज फिनसर्व, भारती एयरटेल और एनटीपीसी समेत अन्य शेयर लाभ में रहे. रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीति प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि वित्तीय शेयरों में मुनाफावसूली जारी रहने से घरेलू शेयर बाजार में गिरावट आयी.

हालांकि धातु, दवा और रियल्टी सूचकांक चमक में रहे जबकि टीसीएस की आय अनुमान से कम रहने से आईटी सूचकांक में नरमी रही. मझोली और छोटी कंपनियों (मिडकैप और स्मॉलकैप) के शेयरों में लिवाली देखी गयी. इसका कारण कमाई की संभावना में सुधार से निवेशक इसकी ओर आकर्षित हो रहे हैं.


उन्होंने कहा, ‘राज्यों में पाबंदियों में ढील से कारोबारी गतिविधियां बढ़ रही हैं. लेकिन हाल में संक्रमण के मामले बढ़ना निकट भविष्य में जोखिम का कारण हो सकता है. जापान में तोक्यो में नई पाबंदियां लगायी जा रही हैं.' एशिया के अन्य बाजारों में शंघाई, सियोल और तोक्यो नुकसान में रहे जबकि हांगकांग में तेजी रही. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में तेजी का रुख रहा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.08 प्रतिशत बढ़कर 74.92 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया.