दिल्ली के रेस्तरां और बार में बिकेंगे ‘हर्बल हुक्के’, हाईकोर्ट ने बिक्री के लिए दी अंतरिम राहत

जैविक जड़ी बूटियों से बने और तंबाकू रहित ‘हर्बल हुक्कों’ के रेस्तरां और बार में थोड़े समय के इस्तेमाल के लिए दिल्ली हाईकोर्ट ने अनुमति दे दी और कहा कि आजीविका की कीमत पर कोविड-19 प्रतिबंधों को जारी रखने की अनुमति नहीं दी जा सकती है.

दिल्ली के रेस्तरां और बार में बिकेंगे ‘हर्बल हुक्के’, हाईकोर्ट ने बिक्री के लिए दी अंतरिम राहत

दिल्ली में बिक सकेंगे हर्बल हुक्का. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

दिल्ली हाईकोर्ट ने राष्ट्रीय राजधानी में रेस्तरां और बार में थोड़े समय के लिए ‘हर्बल हुक्कों' के उपयोग की मंगलवार को अनुमति दे दी और कहा कि आजीविका की कीमत पर कोविड-19 प्रतिबंधों को जारी रखने की अनुमति नहीं दी जा सकती है. ‘हर्बल हुक्के' जैविक जड़ी बूटियों से बने होते हैं और उसमें तंबाकू नहीं होता. जस्टिस रेखा पल्ली की एकल पीठ ने कई रेस्तरां और बार की ओर से दायर याचिकाओं पर सुनाई करते हुए कहा कि वैश्विक महामारी के मद्देनजर यह प्रतिबंध लगाया गया था और इसे ‘हमेशा जारी नहीं रखा जा सकता'. उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि शहर में सिनेमाघर और स्विमिंग पूल भी अब पूर्ण क्षमता के साथ खुल गए हैं. याचिका में ‘हर्बल हुक्कों' की बिक्री पर लगे प्रतिबंध को हटाने का आग्रह किया गया था.

अदालत ने स्पष्ट किया कि वह केवल अंतरिम राहत प्रदान कर रहा है और इसके लिए याचिकाकर्ताओं को एक हलफनामा देना होगा कि वे ‘हर्बल हुक्कों' की बिक्री करते समय कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन सुनिश्चित करेंगे. इस मामले में अब नौ फरवरी को आगे सुनवाई होगी.

न्यायमूर्ति ने कहा, ‘याचिकाकर्ताओं के हलफनामा करने पर, मामले की अगली सुनवाई तक प्रतिवादी (दिल्ली सरकार) हर्बल हुक्कों की बिक्री पर कोई पाबंदी नहीं लगाएगा. कोविड-19 के मामले बढ़ने पर प्रतिवादी अदालत आ सकता है.' अदालत ने दिल्ली सरकार को याचिकाओं पर अपना रुख स्पष्ट करने का निर्देश दिया और यदि अन्य रेस्तरां और बार कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए हर्बल हुक्का बेचने की अनुमति मांगते हैं, तो वह इस पर ‘खुद फैसला' ले.

यह भी पढ़ें : हुक्का पीने वालों को ज्यादा होता है हार्ट अटैक का खतरा, स्टडी में कही गई यह बात

'पुलिस काट रही थी चालान'

पश्चिमी पंजाबी बाग के ब्रेथ फाइन लाउंज एंड बार, टीओएस, आर हाई स्पीडबार एंड लाउंज, वेरांडा मूनशाइन और सिक्स्थ एम्पायरिका लाउंज द्वारा अलग-अलग याचिकाएं दायर की गई थीं, जिसमें कहा गया था कि वे ‘हर्बल हुक्का' की बिक्री कर रहे थे, (जिसके लिए किसी लाइसेंस की आवश्यकता नहीं है क्योंकि उनमें बिल्कुल भी तंबाकू नहीं होता) लेकिन पुलिस फिर भी छापेमारी कर रही है, उपकरण जब्त कर रही है और चालान कर रही है.


याचिकाकर्ताओं ने संयुक्त पुलिस आयुक्त (लाइसेंसिंग यूनिट) के उस आदेश को भी चुनौती दी थी, जिसमें हर्बल हुक्के की बिक्री या सेवा पर रोक लगाई गई थी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video : रेलवे के पुराने कोच को बनाया गया रेस्तरां, रेल की बोगी में उठा सकेंगे खाने का लुत्फ



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)