प्रियदर्शन ने किया यह बड़ा ऐलान, बोले- फिल्म जगत में सुपरस्टारों का यह अंतिम युग...

फिल्मों में वास्तविकता का पुट बढ़ने के साथ ही निर्देशक प्रियदर्शन (Priyadarshan) का मानना है कि धीरे-धीरे सुपरस्टारों का महत्व कम हो जाएगा और उसका स्थान कहानी को पर्दे पर दिखाने की कला ले लेगी.

प्रियदर्शन ने किया यह बड़ा ऐलान, बोले- फिल्म जगत में सुपरस्टारों का यह अंतिम युग...

प्रियदर्शन की फिल्म है 'हंगामा 2'

नई दिल्ली:

फिल्मों में वास्तविकता का पुट बढ़ने के साथ ही निर्देशक प्रियदर्शन (Priyadarshan) का मानना है कि धीरे-धीरे सुपरस्टारों का महत्व कम हो जाएगा और उसका स्थान कहानी को पर्दे पर दिखाने की कला ले लेगी. फिल्मोद्योग के बेहतरीन निर्देशकों में से एक प्रियदर्शन (Priyadarshan Movies) ने बॉलीवुड के सबसे नामचीन कलाकारों के साथ काम किया है जिनमें सलमान खान, शाहरुख खान और अक्षय कुमार शामिल हैं. अब प्रियदर्शन की अगली फिल्म 'हंगामा 2' है जो 23 जुलाई को ओटीटी पर रिलीज हो रही है.

कई फिल्मों में किया है काम
प्रियदर्शन को खास तौर पर 'हेरा फेरी', 'गरम मसाला' और 'भूल भुलैया' जैसी फिल्मों के लिए जाना जाता है.  प्रियदर्शन ने लगभग 40 साल के अपने करियर में ड्रामा से लेकर कॉमेडी तक कई भाषाओं में फिल्में बनाई हैं. उन्होंने कहा कि 'आज के दर्शक उन फिल्मों को नकार देते हैं जिनमें वास्तविकता नहीं होती.'उन्होंने आगे कहा, "फिल्मोद्योग बदल गया है. मुझे लगता है कि यह सुपरस्टारों का अंतिम युग है. आज हम जिन्हें देख रहे हैं. शाहरुख खान से लेकर सलमान और अक्षय तक उन्हें ऊपरवाले का धन्यवाद करना चाहिए. कल का सुपरस्टार फिल्म की विषयवस्तु होगी.'


कॉमेडी हो या गंभीर फिल्में वास्तविक होनी जरूरी हैं
प्रियदर्शन ने कहा, "मैं देख रहा हूं कि कैसे फिल्में और अधिक वास्तविक होती जा रही हैं. अब आप कहानी को बढ़ा-चढ़ा कर नहीं दिखा सकते. कॉमेडी या गंभीर फिल्म में भी उन्हीं चीजों को दिखाया जा सकता है जो विश्वास करने लायक हों. मुझे नहीं लगता कि कोई फिल्म असफल होगी यदि उसमें विश्वास करने लायक सामग्री हो."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


जाने माने निर्देशक हैं प्रियदर्शन
प्रियदर्शन ने निर्देशक के रूप में अपने करियर की शुरुआत 1980 के दशक में  'पुचाक्कुरु मुक्कुति' और 'बोईंग बोईंग' जैसी मलयाली फिल्मों से की थी. इन दोनों फिल्मों में सुपरस्टार मोहनलाल ने अभिनय किया था. बाद में प्रियदर्शन ने तेलुगु और तमिल फिल्मों का भी निर्देशन किया. हिंदी फिल्म उद्योग में उन्होंने 90 के दशक में 'मुस्कुराहट', 'गर्दिश' और 'विरासत' जैसी फिल्में दीं. वर्ष 2000 में आई 'हेरा फेरी' से प्रियदर्शन को भारत भर में सफलता मिली. अक्षय कुमार, परेश रावल और सुनील शेट्टी अभिनीत यह फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई थी.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)