इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर ला दी थी पैसों की आंधी, बिके थे 10 करोड़ टिकट, एक टिकट की कीमत थी सिर्फ इतने रुपये

Mother India Ticket Price: 50 के दशक में किसी फिल्म की बात की जाती है तो सबसे पहले सभी की जुबान पर नरगिस और सुनील दत्त की फिल्म मदर इंडिया का नाम आता है. मदर इंडिया उस जमाने की बेहतरीन मूवीज में से एक है.

इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर ला दी थी पैसों की आंधी, बिके थे 10 करोड़ टिकट, एक टिकट की कीमत थी सिर्फ इतने रुपये

Mother India Ticket Price: सुनील दत्त और नरगिस की मदर इंडिया के टिकट कीमत सुनकर हैरान रह जाएंगे

नई दिल्ली:

Mother India Ticket Price: 50 के दशक में किसी फिल्म की बात की जाती है तो सबसे पहले सभी की जुबान पर नरगिस और सुनील दत्त की फिल्म मदर इंडिया का नाम आता है. मदर इंडिया उस जमाने की बेहतरीन मूवीज में से एक है. इस फिल्म को आज भी लोग देखना पसंद करते हैं. इस फिल्म को महबूब खान ने डायरेक्ट किया था. ये फिल्म 60 लाख के बजट में बनी थी और इसने बॉक्स ऑफिस पर गर्दा उड़ा दिया था. ऐसा मुश्किल ही कोई होगा जिसकी आंखों में इस फिल्म को देखकर आंसू ना आए हो. फिल्म में महिलाओं के शोषण की कहानी दिखाई गई है.

A Blast from the Past - The Forgotten creative and artistic Cinema Hall tickets of the big movies of the Golden and Masala Eras
byu/DrShail inbollywood
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सबसे ज्यादा बिके थे टिकट्स
बॉलीवुड में अब कई फिल्में आईं हैं जिन्होंने 1000 करोड़ तक का बिजनेस कर लिया है. मगर टिकट्स बिकने की बात की जाए तो आज की फिल्में अभी भी पहले जमाने से बहुत पीछे हैं. जी हां इंडिया में देखी गईं टॉप 10 की लिस्ट में आज के समय की बहुत कम फिल्में हैं. इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर मदर इंडिया और मुगल-ए-आजम है. इस फिल्म के 10 करोड़ टिकट्स बिके थे. 10 करोड़ लोगों ने इस फिल्म को देखा था. लिस्ट में पहले नंबर पर शोले, दूसरे नंबर पर बाहुबली 2: द कंक्लूजन हैं.

इतने का था मदर इंडिया का टिकट
सोशल मीडिया पर मदर इंडिया के टिकट की एक फोटो वायरल हो रही है. जिसमें टिकट का प्राइज लिखा हुआ है. मदर इंडिया की टिकट 2 रुपये थी. ये रीगल सिनेमा की टिकट है. करोड़ों लोगों ने थिएटर में जाकर ये फिल्म देखी थी.

ऑस्कर में हुई थी नॉमिनेट
मदर इंडिया भारत का ऑस्कर में नाम रोशन करने वाली थी. इस फिल्म को बेस्ट फॉरेन लैंग्वेज फिल्म कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया था. हालांकि ये फिल्म ऑस्कर नहीं जीत पाई थी.  लेकिन लोगों का दिल जरूर इस फिल्म ने जीता है. फिल्म में उस दौर की कड़वी यादें दिखाई गई हैं.