NDTV Khabar

कोरोनावायरस

  • उत्तर प्रदेश में कोरोना का कहर जारी, पिछले 24 घंटे में आये 29754 नए मरीज, 163 लोगों की मौत
    इसके अलावा प्रयागराज में 2175, कानपुर नगर में 1740, वाराणसी में 1637, मेरठ में 1287, गाजीपुर में 940 और बरेली में 913 नए मरीजों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है. बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में इस वक्त 223544 मरीजों का इलाज किया जा रहा है राज्य में अब तक 909405 लोगों में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है जिनमें से 675702 पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं.
  • हमें अपने संकल्प, हौसले और मजबूत इरादों के साथ पार करनी है कोरोना की चुनौती: पीएम मोदी
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने मंगलवार को देश को संबोधित करते हुए कहा कि चुनौती बड़ी है लेकिन पार करेंगे. कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर तूफान की तरह आई है. चुनौती बड़ी है लेकिन हमें इसे अपने संकल्प, हौसले और मजबूत इरादों के साथ पार करना है. आज देश एक बड़ी चुनौती से गुजर रहा है. जिन लोगों ने अपने परिजनों को खोया है, उनके प्रति अपनी सहानुभूति प्रकट करता हूं.
  • लॉकडाउन में मज़दूरों के लिए दिल्ली सरकार ने अफसरों की समिति बनाई
    लॉकडाउन में दिहाड़ी, निर्माण और प्रवासी मज़दूरों के लिए दिल्ली सरकार ने अफसरों की समिति बनाई है. इस समिति का काम  प्रवासी और दिहाड़ी मजदूरों को मूलभूत ज़रूरत की चीजें जैसे खाना, पानी, रहने का इंतजाम, कपड़ा और दवा, और अन्य जरूरत की चीजें मुहैया कराना सुनिश्चित करना होगा. कंस्ट्रक्शन से जुड़े मजदूरों को खाना,दवा और अन्य मूलभूत जरूरत की चीजें कंस्ट्रक्शन साइट पर ही उपलब्ध करानी होगी.
  • कोरोना को लेकर राजनाथ सिंह ने की रक्षा मंत्रालय और सशस्त्र सेनाओं की तैयारियों की समीक्षा
    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच रक्षा मंत्रालय और सशस्त्र सेनाओं की तैयारियों की समीक्षा की. राजनाथ सिंह को संकट की इस घड़ी में नागरिक प्रशासन को सहायता प्रदान करने के लिए एफएमएस, डीआरडीओ, सरकारी क्षेत्र के रक्षा उपक्रमों, आयुध निर्माणी बोर्ड और रक्षा मंत्रालय के अन्य विभागों जैसे राष्ट्रीय कैडेट कॉर्प्स द्वारा किए गए उपाय उपायों के बारे में जानकारी दी गई. उन्होंने सरकारी क्षेत्र के रक्षा उपक्रमों, आयुध निर्माणी बोर्ड और रक्षा अनुसंधान विकास संगठन को नागरिक प्रशासन/ राज्य सरकारों को ऑक्सीजन सिलेंडर तथा अतिरिक्त बेड शीघ्रताशीघ्र उपलब्ध कराने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य करने को कहा.
  • पलायन रोकने के लिए मजदूरों को नकद आर्थिक मदद और मुफ्त अनाज देने की मांग
    Delhi Lockdown: दिल्ली में राजमिस्त्री का काम करने वाले मुरली अपने परिवार के साथ आनंद विहार बस टर्मिनल पहुंचे हैं. उत्तर प्रदेश के सीतापुर अपने गांव वापस जाने के लिए पिछले कुछ दिनों से काम मिलना बंद हो गया था और अब लॉकडाउन लगने के बाद काम मिलने की संभावना खत्म हो चुकी है. मुरली ने कहा- भविष्य को लेकर अनिश्चितता है इसलिए मजबूर होकर वापस अपने गांव जा रहे हैं. सेंटर फॉर इंडियन ट्रेड यूनियंस ने प्रवासी मजदूरों को आर्थिक मदद और खाद्य सामग्री देने की मांग सरकार से की है.
  • ऑक्सीजन सप्लाई के आदेश पर अमल न करने पर INOX को अवमानना का नोटिस
    दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर INOX को दिए गए आदेश पर अमल न करने के चलते अवमानना का नोटिस जारी किया है. कोर्ट ने MD/मालिक को पेश होने को कहा है. यूपी के चीफ सेक्रेट्री को भी पेश होने को कहा है. कोर्ट ने कहा कि कोविड टेस्ट के जल्द रिजल्ट घोषित हो सकें, इसके लिए केन्द्र सरकार ज़रूरी कदम उठाए. ICMR, RT PCR लैब को लगाने/ विस्तार को प्राथमिकता दे. 
  • ऑक्सीजन के साथ-साथ कोविड की दवाईयों और ऑक्सीमीटर की भी किल्लत
    Delhi NCR Coronavirus: कोविड संक्रमण के चलते अस्पताल में बेड और ऑक्सीजन की कमी तो देखी ही जा रही है अब कोविड टेस्ट और उससे जुड़ी दवाइयां और ऑक्सीमीटर भी मेडीकल स्टोर्स से गायब हो रहे हैं. लोग कोविड टेस्ट के लिए दर-दर भटक रहे हैं. दिल्ली से सटे गाजियाबाद के पॉश इलाके इंदिरापुरम में कोविड टेस्ट कराने वालों की कतार सुबह छह बजे से लगनी शुरू हो जाती है. दिन बढ़ने के साथ ही यह कतार लंबी होने लगती है. सड़क के दोनों तरफ हैरान परेशान लोगों की इस भीड़ में जो लोग घंटों खड़े नहीं रह सकते हैं वे बीच-बीच में बैठ जाते हैं. लेकिन सरकार की मदद से चलने वाले इस कोविड सेंटर में रोज टेस्ट दो सौ होते हैं और लोग इससे कहीं ज्यादा हैं. यही वजह है कि टेस्ट के लिए दिल्ली से लेकर यूपी तक में मारा मारी मची है.
  • दिल्ली में कोरोना के एक दिन में सबसे ज्यादा 28,395 नए मामले आए सामने, 277 मरीजों की मौत
    दिल्ली में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के सारे रिकॉर्ड टूट गए हैं. पिछले 24 घंटे में यहां रिकॉर्ड 28,395 नए केस मिले हैं जो कि इस महामारी की शुरुआत के बाद से एक दिन में सामने आए सबसे ज्यादा मामले हैं. इसके साथ ही यहां संक्रमण दर बढ़कर 32.82 फीसदी हो गई है.
  • प्रधानमंत्री मोदी ने आख़िर मानी अपनी महाभूल...
    राष्ट्र के नाम प्रधानमंत्री के अभिभाषण की सबसे ख़ास बात क्या है? संभवतः पहली बार उन्होंने अपनी किसी भूल को सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया है. उन्होंने बहुत स्पष्ट कहा कि देश को किसी भी सूरत में लॉकडाउन से बचाया जाना चाहिए. लॉकडाउन बस अंतिम विकल्प होना चाहिए. प्रधानमंत्री को यह ज्ञान कहां से आया?
  • ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ाने के लिए कोशिशें की जा रहीं, पीएम मोदी के भाषण की 10 प्रमुख बातें
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) देश में बिगड़ती कोरोनो वायरस (Coronavirus) की स्थिति को लेकर राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि राज्यों में नए ऑक्सीजन प्लांट, चिकित्सा उपयोग के लिए औद्योगिक ऑक्सीजन का उपयोग, ऑक्सीजन एक्सप्रेस - हम सब कुछ कर रहे हैं. तूफान की तरह दूसरी लहर चली है; मुझे स्वास्थ्यकर्मियों का दर्द महसूस होता है. किसी भी स्थिति में हमें कभी भी धैर्य नहीं खोना चाहिए. पिछले कुछ दिनों में लिए गए निर्णयों से कोरोनोवायरस की स्थिति में सुधार होगा.
  • देश को लॉकडाउन से बचाना है, इसे अंतिम उपाय के रूप में ही अपनाएं राज्य : PM नरेंद्र मोदी
    भारत में कोरोना संकट (Coronavirus in India) के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने आज (मंगलवार) राष्ट्र को संबोधित किया. PMO की ओर से रात करीब 8 बजे संबोधन के संबंध में जानकारी दी गई. पीएम के संबोधन के लिए 8:45 का समय बताया गया. पीएम मोदी ने कहा, 'कोरोना के खिलाफ देश आज फिर एक बहुत बड़ी लड़ाई लड़ रहा है. कुछ समय पहले तक स्थितियां संभली हुई थीं, फिर ये कोरोना की दूसरी वेव तूफान बनकर आ गई.'
  • अब भारत में जो वैक्सीन बनेगी, उसका आधा हिस्सा सीधे राज्यों और अस्पतालों को भी मिलेगा : PM मोदी
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण बढ़ने से बिगड़ते हालात को लेकर आज रात में 8:45 बजे देश को संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने एक ट्वीट के जरिए यह जानकारी दी है. देश भर में कोरोना वायरस के केस बढ़ते जा रहे हैं. इसके साथ अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड कम पड़ रहे हैं और ऑक्सीजन व दवाओं की कमी हो रही है.  देश में पिछले 24 घंटों में 2,59,170 नए मामले आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या 1,53,21,089 हो गई है. वहीं इस अवधि में मरने वालों की संख्या सर्वाधिक 1761 रही है.
  • Coronavirus: डबडबाई आंखों के साथ डॉक्टर ने कहा, ऐसा पहले कभी नहीं देखा; बेबस हैं हम
    तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण ने देश भर में कोहराम मचा दिया है. इससे आम लोग तो बुरी तरह  प्रभावित हैं ही मरीजों के इलाज में जुटे डॉक्टर कहीं ज्यादा चुनौतीपूर्ण हालात का सामना कर रहे हैं और हताश हैं. इन्फीशियस डिसीज फिजीशियन डॉ तृप्ति गिलाडा (Dr Trupti Gilada) ने एक वीडियो में डबडबाई आंखों के साथ कहा कि ''बहुत सारे डॉक्टरों की तरह मैं भी बहुत परेशान हूं. मुंबई की हालत तो बहुत ही खराब है. मुंबई (Mumbai) के अस्पतालों में आईसीयू में जगह नहीं है. हम लोगों ने इससे पहले ऐसी स्थिति कभी नहीं देखी है. हम असहाय हैं. मौजूदा स्थिति में इमोशनल ब्रेकडाउन हम सभी डॉक्टरों में भी कहीं ना कहीं हो रहा है. इसलिए अपना ख्याल रखें और खुद को सुरक्षित रखें.''
  • महाराष्ट्र में लॉकडाउन को लेकर आज फैसला ले सकते हैं उद्धव ठाकरे : मंत्री
    Lockdown in Maharashtra: महाराष्ट्र में बेकाबू कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण को देखते हुए राज्य में संपूर्ण लॉकडाउन (Lockdown in Maharashtra) लगाए जाने को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) बुधवार को घोषणा कर सकते हैं.
  • महाराष्ट्र के अस्पताल में खत्म होने वाली है ऑक्सीजन, डॉक्टर बोले, '3-4 घंटे बचे हैं, भयानक स्थिति है'
    महाराष्ट्र (Maharashtra Covid 19) के अहमदनगर स्थित एक अस्पताल में, जहां करीब 85 कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है, के डॉक्टर ने बताया है कि अगले कुछ घंटों में अस्पताल में ऑक्सीजन (Oxygen) खत्म हो जाएगी. केवल 3 से 4 घंटों के लिए ऑक्सीजन बची है. मैककेयर सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल के डॉक्टर सतीश सोनावने ने एक वीडियो में अपील करते हुए कहा, 'इस समय ऑक्सीजन की कमी है. पिछले कुछ दिनों से ऑक्सीजन की कमी थी लेकिन हम किसी तरह मैनेज कर रहे थे. आज ये संकट बढ़ गया है और हमारे पास केवल 3 से 4 घंटे बचे हैं. ये एक विकट स्थिति है.'
  • दिल्ली के अस्पतालों में बची है कुछ ही घंटों के लिए ऑक्सीजन : 10 बड़ी बातें
    देश भर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले विकराल रूप लेते जा रहे हैं और ऐसे में महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों से ऑक्सीजन की किल्लत की खबरें भी सामने आई हैं. अब राजधानी दिल्ली में भी ऑक्सीजन की भारी किल्लत की खबर है. दिल्ली में जि तरह कोरोना के मामलों में तेजी आई है, यहां के अस्पतालों में ऑक्सीजन बहुत तेजी से खत्म हो रहा है. राजधानी के कई बड़े अस्पतालों में केवल कुछ घंटे का ही ऑक्सीजन बचा है. इसे लेकर मंगलवार को दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई भी हुई. सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार ने अपना पक्ष रखते हुए कहा, 'दिल्ली के हालात चिंताजनक हैं. दिल्ली को केंद्र ज्यादा संसाधन उपलब्ध कराए. दिल्ली सरकार ने कहा, आज 85 हजार से ज्यादा एक्टिव केस हैं, हमें तुरंत ऑक्सीजन व संसाधनों की जरूरत है. मुख्यमंत्री ने मंत्री पीयूष गोयल को पत्र भी लिखा है. हमें तुरंत ऑक्सीजन चाहिए, 700 MT से बढ़कर 973 MT की जरूरत बढ़ गई है. जल्द ही 1100 हो जाएगी. इसके चलते लोग मर जाएंगे. हमें तुरंत ऑक्सीजन दी जाए.
  • दिल्ली हाई कोर्ट की केंद्र को फटकार, कहा - आर्थिक हित लोगों की जान से ऊपर नहीं
    दिल्ली में कोरोना से हालात बेकाबू हैं. इसे लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि जैसे हालात बने हैं उनके चलते अदालत रोजाना सुनवाई करेगी् वहीं केंद्र सरकार ने हाई कोर्ट को बताया कि कुछ महत्वपूर्ण उद्योगों को छोड़ कर अन्य उद्योगों के लिए ऑक्सीजन सप्लाई पर 2 अप्रैल से रोक लगी हुई है,
  • झारखंड में 22 से 29 अप्रैल तक लॉकडाउन, किस गतिविधि पर पाबंदी, क्या रहेगा खुला
    Jharkhand Lockdown News: झारखंड में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में राज्य सरकार ने मंगलवार को एक हफ्ते का लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्यवासियों को संबोध‍ित करते हुए इसकी घोषणा की.
  • अगले तीन हफ्ते कोरोना के मामलों को लेकर स्थिति चिंताजनक: डॉ वीके पॉल
    Coronavirus: अगले तीन हफ्ते कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों को लेकर स्थिति चिंताजनक है. नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल (Dr VK Paul) ने यह बात कही है. डॉ पॉल ने कहा है कि केंद्र शासित प्रदेशों से कहा गया है कि अगले तीन हफ़्तों के लिए क्लीनिकल मैनेजमेंट पर खास ध्यान दें. आज केंद्रीय गृह सचिव ने कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक की. यह बैठक केंद्र शासित प्रदेशों को लेकर थी जिसमें इन राज्यों में कोरोना की स्थिति को लेकर जायजा लिया गया. इस बैठक में मौजूद नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि अगले तीन हफ्ते क्रिटिकल होने वाले हैं.
  • Ground Report: दिल्ली में जरूरत के मुताबिक सप्लाई नहीं हो रही ऑक्सीजन
    गैस रिफलिंग के दिल्ली के सभी 10 प्लांटों के मालिकों को आदेश दिया गया है कि अब वे इंडस्ट्री को गैस बिल्कुल गैस न दें, केवल मेडिकल के लिए गैस की सप्लाई दें. हर प्लांट में दिल्ली सरकार के अफसर और पुलिस तैनात है. दिल्ली में ऑक्सीज़न डिमांड के हिसाब से सप्लाई नहीं हो पा रही है. एक रिफलिंग प्लांट से हर रोज 300-400 सिलिंडर ही सप्लाई हो पा रही है.
12345

Advertisement

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com