फूल बेचने वाली लड़की को मिला US की शीर्ष यूनिवर्सिटी में दाखिला, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से करेगी पीएचडी

वह कहते हैं न कि मेहनत और लगन से अपनी किस्मत बदली जा सकती है. ऐसा ही कुछ कर दिखाया गया मुंबई की सरिता माली ने. मुंबई की 28 वर्षीय सरिता माली अपने पिता के साथ सड़कों पर फूल बेचा करती है और अब वह अमेरिका के शीर्ष यूनिवर्सिटी में पीएचडी की पढ़ाई करेंगी.

फूल बेचने वाली लड़की को मिला US की शीर्ष यूनिवर्सिटी में दाखिला, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से करेगी पीएचडी

फूल बेचने वाली लड़की को मिला US की शीर्ष यूनिवर्सिटी में दाखिला

नई दिल्ली:

वह कहते हैं न कि मेहनत और लगन से अपनी किस्मत बदली जा सकती है. ऐसा ही कुछ कर दिखाया गया मुंबई की सरिता माली ने. मुंबई की 28 वर्षीय सरिता माली अपने पिता के साथ मुंबई की सड़कों पर फूल बेचा करती है और अब वह अमेरिका के शीर्ष यूनिवर्सिटी में पीएचडी की पढ़ाई करेंगी. पीएचडी की पढ़ाई के लिए वह जल्द ही कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में प्रवेश लेंगी. वर्तमान में सरिता जेएनयू में भारतीय भाषा केंद्र में हिंदी साहित्य में पीएचडी कर रही हैं. उन्होंने जेएनयू से एमए और एमफिल की डिग्री ली है और जुलाई में पीएचडी जमा करेंगी.

इस मौके पर सरिता ने कहा, "मुझे लगता है कि हर किसी के जीवन में उतार-चढ़ाव आते हैं. हर किसी की अपनी कहानियां और पीड़ाएं होती हैं. यह तय होता है कि किस समाज में पैदा हुआ है और आपको क्या जीवन मिलता है. दुर्भाग्य से या सौभाग्य से किसी अर्थ में, मैं ऐसे समाज में पैदा हुई हूं, जहां समस्याएं मेरे जीवन का सबसे जरूरी हिस्सा थीं."

त्योहारों के दौरान, वह अपने पिता के साथ सड़कों पर फूल बेचती थी, खासकर गणेश चतुर्थी, दिवाली और दशहरा जैसे बड़े त्योहारों पर. वह स्कूल के दिनों से ही अपने पिता के साथ यह काम कर रही है. वह जब भी जेएनयू से वेकेशन पर जाती तो फूलों की माला बनाती थीं. पिछले दो वर्षों से, महामारी के कारण उसके पिता का काम रुका हुआ है. इससे पहले वे सभी काम करते थे. फूल बेचना उनके जीवन का हिस्सा रहा है. जब से उसने अपनी आंखें खोली है, उसने केवल फूल देखे हैं. सरिता ने कभी हार नहीं मानी, उनके जीवन में एक तरफ संघर्ष था और दूसरी तरफ उम्मीद थी. दिक्कतें भी थीं और मेहनत करने का जज्बा भी. उन्होंने कहा कि उनके परिवार के इसी जुनून और समर्थन ने उन्हें यहां तक ​​पहुंचाया है.

सरिता माली के परिवार में उनके माता, पिता, बड़ी बहन और दो छोटे भाइयों सहित कुल 6 सदस्य हैं. एकमात्र पिता ही कमाते हैं. लॉकडाउन के चलते उसके पिता जौनपुर के बदलापुर स्थित अपने गृहनगर चले गए.अपने जीवन के मोड़ के बारे में बात करते हुए, माली ने कहा, "जेएनयू मेरे जीवन का महत्वपूर्ण मोड़ है. एमए में जेएनयू में भर्ती होना मेरे जीवन का महत्वपूर्ण मोड़ है. अगर मुझे यहां प्रवेश नहीं मिला होता, तो मुझे नहीं पता कि मेरा एडमिशन कहां होता. जेएनयू जैसा विश्वविद्यालय उस समाज से आने वाले लोगों को भरपूर उम्मीद देता है जहां से मैं हूं."

2010 में, उनके एक चचेरे भाई ने उन्हें जेएनयू के बारे में बताया था और कई चीजों के बारे में नहीं जानती थी. 2010 में इंटरनेट का जमाना नहीं था और ग्रेजुएशन तक उनके पास स्मार्टफोन भी नहीं था. उन्होंने सुना था कि जो भी जेएनयू जाता है वह कुछ बन जाता है. यह खास लाइन उसके दिमाग में कहीं अटक गई. वह प्रतिदिन मंत्र की तरह इसका जाप करती थी. उन्होंने बीए प्रथम वर्ष में जेएनयू की तैयारी शुरू की. उन्होंने कहा कि उस समय जेएनयू की परीक्षा सब्जेक्टिव हुआ करती थी और 2014 में वह जेएनयू में ओबीसी की आखिरी सीट के लिए मास्टर डिग्री के लिए चुनी गईं.

उसने आगे कहा कि उसने अपने दिन-प्रतिदिन के संघर्षों से बहुत कुछ सीखा है. "कभी-कभी यह अविश्वसनीय लगता है कि मैं कुछ सपनों में जी रहा हूं, लेकिन मुझे लगता है कि अब मेरे लिए और ज़िम्मेदारियां हैं. जब मैं उस समाज को देखती हूं जहां से मैं आई हूं, उस यात्रा पर मुझे विश्वास नहीं होता है. अगर जेएनयू मैं यहां नहीं होता, जो मैं अभी कर रहा हूं, वह नहीं करता. जेएनयू में आने के बाद भरोसा हुआ कि हम बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


सरिता ने कहा, उन्होंने सरकार से इस तरह के और अधिक सार्वजनिक वित्त पोषित विश्वविद्यालय बनाने की अपील की ताकि उनके समाज के अधिक छात्र आकर अध्ययन कर सकें. सरिता माली जेएनयू की सबसे कम उम्र की स्कॉलर हैं.