चीन को छोड़कर भारत और दक्षिण पूर्व एशिया में उत्पादन बढ़ाने की योजना बना रहा Apple : रिपोर्ट

यूक्रेन पर रूसी हमले को बीजिंग के अप्रत्यक्ष समर्थन और चीन के कुछ शहरों में COVID-19 के मुकाबले के लिए लगाए गए लॉकडाउन के बीच, ऐप्पल का यह कदम, बाजार पूंजीकरण के हिसाब से सबसे बड़ी अमेरिकी कंपनी होने के नाते, अन्य पश्चिमी कंपनियों की सोच को प्रभावित करेगा.

चीन को छोड़कर भारत और दक्षिण पूर्व एशिया में उत्पादन बढ़ाने की योजना बना रहा Apple : रिपोर्ट

Apple Inc भारत में प्रोडक्शन बढ़ाने की योजना बना रहा है.

वाशिंगटन:

अमेरिकी मल्टीनेशनल टेक कंपनी Apple Inc ने चीन के एंटी कोविड सख्त नियमों से परेशान होकर अब भारत और दक्षिण-पूर्व एशिया में उत्पादन बढ़ाने की योजना बनाई है. वॉल स्ट्रीट जर्नल ने मामले से परिचित लोगों का हवाला देते हुए बताया है कि Apple Inc ने अपने कुछ अनुबंध निर्माताओं से कहा है कि वह चीन के बाहर उत्पादन बढ़ाना चाहता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और वियतनाम, जो पहले से ही एप्पल उत्पादन के केंद्र हैं, उन देशों में शामिल हैं जिन्हें चीन के वैकल्पिक विकल्प के रूप में देखा जा रहा है.

यूक्रेन पर रूसी हमले को बीजिंग के अप्रत्यक्ष समर्थन और चीन के कुछ शहरों में COVID-19 के मुकाबले के लिए लगाए गए लॉकडाउन के बीच, ऐप्पल का यह कदम, बाजार पूंजीकरण के हिसाब से सबसे बड़ी अमेरिकी कंपनी होने के नाते, अन्य पश्चिमी कंपनियों की सोच को प्रभावित करेगा जो चीन पर अपनी निर्भरता को कम करने के लिए विनिर्माण या प्रमुख सामग्रियों के लिए विचार कर रही हैं. 

विश्लेषकों के अनुसार, iPhone, iPad और MacBook लैपटॉप सहित Apple के 90 प्रतिशत से अधिक उत्पाद चीन में बाहरी ठेकेदारों द्वारा निर्मित किए जाते हैं.

अप्रैल में Apple की आपूर्ति श्रृंखला चुनौतियों का जवाब देते हुए कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टिम कुक ने कहा,  "हमारी आपूर्ति श्रृंखला वास्तव में वैश्विक है, और इसलिए उत्पाद हर जगह बनाए जाते हैं."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


चीन में बढ़ते कोविड संक्रमण के बीच शंघाई और अन्य शहरों में लॉकडाउन लगाया गया है. इससे कई पश्चिमी कंपनियों की आपूर्ति-श्रृंखला बाधित हुई है. अप्रेल में ही Apple ने चेतावनी दी थी कि COVID-19 के दोबारा बढ़ते संक्रमण से चालू तिमाही में बिक्री में 8 बिलियन अमरीकी डॉलर तक की बाधा उत्पन्न करेगा.