भाई राजीव कपूर के निधन पर रणधीर कपूर बोले- उन्हें पहले से कोई बीमारी नहीं थी, अब मैं अकेला रह गया...

करीना कपूर (Kareena Kapoor) और करिश्मा कपूर (Karishma Kapoor) के पिता और अपने जमाने के जाने-माने एक्टर रणधीर कपूर (Randhir Kapoor) अपने छोटे भाई राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) की मौत से बिल्कुल टूट चुके हैं.

भाई राजीव कपूर के निधन पर रणधीर कपूर बोले- उन्हें पहले से कोई बीमारी नहीं थी, अब मैं अकेला रह गया...

भाई राजीव की मौत पर रणधीर कपूर (Randhir Kapoor) बोले- उन्हें पहले से कोई बीमारी नहीं थी

नई दिल्ली:

करीना (Kareena Kapoor) और करिश्मा कपूर (Karishma Kapoor) के पिता और अपने जमाने के जाने- माने एक्टर रणधीर कपूर अपने छोटे भाई राजीव की मौत से बिल्कुल टूट चुके हैं. हाल ही में एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने कहा कि राजीव कपूर को पहले से किसी भी तरह की कोई बीमारी नहीं थी. एक्टर आगे कहते हैं कि एक के बाद एक अपने परिवार के सदस्य को खोने का गम मुझे अंदर से टूट चुका हूं. और अब इस घर में मैं अकेला सदस्य बचा हूं. रणधीर ने ईटाइम्स को बताया, "राजीव बहुत ही सज्जन और बेहद जिंदादिल व्यक्ति थे. यह विश्वास करना बहुत कठिन है कि वह अब हमारे बीच नहीं रहें. उनका कोई मेडिकल इतिहास भी नहीं था. उनकी सेहत बिल्कुल ठीक थी. उन्हें पहले से कोई समस्या नहीं थी."

राजीव कपूर के निधन के बाद कपूर मेंशन पहुंचीं करीना-करिश्मा, हॉस्पिटल में नजर आए भाई रणधीर कपूर

रणधीर कपूर ने कहा कि एक साल के अंदर मैंने अपने तीन भाई-बहनों को खो दिया. जनवरी 2020 में रितु नंदा का निधन हो गया और अप्रैल में ऋषि कपूर का निधन हो गया. "मुझे नहीं पता कि क्या हो रहा है. मैं ऋषि और राजीव दोनों के काफी करीब था. मैंने अपने परिवार के चार लोगों को खो दिया है - मेरी मां कृष्णा कपूर (अक्टूबर 2018), सबसे बड़ी बहन रितु (14 जनवरी, 2020), ऋषि और अब राजीव. ये चार मेरे सेंट्रल कोर थे, जिनके साथ मैंने अपनी ज्यादातर बातें शेयर की थी या करता था. 


मंदाकिनी ने राजीव कपूर को किया याद, 'राम तेरी गंगा मैली' से मचाई थी धूम, बोलीं- हमारी खूबसूरत यादें...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


रणधीर कपूर आगे कहते हैं कि परिवार ने पारंपरिक 'चौथा' के बजाय राजीव के लिए एक छोटी सी पूजा करने का फैसला किया है. कोरोनावायरस महामारी के कारण है ऋषि के मरने के बाद भी ऐसी ही सावधानी बरती गई थी. राजीव की मृत्यु के दिन के बारे में बात करते हुए रणधीर बताते हैं कि, " मेरे पास 24 घंटे एक नर्स रहती हैं क्योंकि मुझे तंत्रिका संबंधी समस्या है जिसकी वजह से मुझे चलने में थोड़ी परेशानी होती है. नर्स सुबह 7:30 बजे राजीव जगाने गई लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया. फिर नर्स ने राजीव की नब्ज चेक किया तो वह बहुत कम थी और आगे गिर रही थी. हमने तुरंत उसे अस्पताल पहुंचाया जहां उसे बचाने की सारी कोशिशें नाकाम रहीं. और अब मैं इस घर में अकेला रह गया हूं.