डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए RBI ने नंदन नीलेकणि की अध्यक्षता में समिति बनाई

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को नंदन नीलेकणि (Nandan Nilekani) की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है.

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए RBI ने नंदन नीलेकणि की अध्यक्षता में समिति बनाई

नंदन नीलेकणि.

मुंबई:

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को नंदन नीलेकणि (Nandan Nilekani) की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति गठित की है. इसका मकसद डिजिटल भुगतान की मजबूती और सुरक्षा को लेकर सुझाव देना है. उल्लेखनीय है कि नीलेकणि ने ही आधार कार्ड जैसी योजना को अमलीजामा पहनाया है. रिजर्व बैंक ने एक बयान में बताया कि इस समिति में पांच सदस्य होंगे. यह समिति देश में डिजिटलीकरण के माध्यम से वित्तीय समावेशन और डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के उद्देश्य से गठित की गई है. रिजर्व बैंक ने कहा, ‘समिति अपनी पहली बैठक के बाद 90 दिन में रपट सौंपेगी'. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए नीलेकणि (Nandan Nilekani) ने एक ट्वीट में कहा, ‘आरबीआई और भारत एवं भारतीयों के लिए भुगतान को पुनर्भाषित करने वाली समिति के साथ काम करने को लेकर उत्साहित हूं'.
आधार कार्ड पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर जानिए क्या बोले UIDAI के चेयरमैन रह चुके नंदन नीलेकणि


समिति का काम देश में डिजिटल भुगतान की मौजूदा स्थिति की समीक्षा, व्यवस्था में कमियों की पहचान और उन्हें ठीक के करने के लिए सुझाव देना होगा. साथ ही समिति डिजिटल भुगतान की सुरक्षा से जुड़े सुझाव भी देगी. नीलेकणि के अलावा समिति में आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर एच. आर. खान, विजया बैंक के पूर्व प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी किशोर सांसी, सूचना प्रौद्योगिकी और इस्पात मंत्रालय की पूर्व सचिव अरुणा शर्मा और आईआईएम अहमदाबाद में सेंटर फॉर इनोवेशन, इंक्यूबेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप के मुख्य नवोन्मेष अधिकारी संजय जैन शामिल हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


UIDAI के पूर्व अध्यक्ष नंदन नीलेकणि ने 'आधार से जुड़ी सूचना लीक' मामले पर कहा, राई का पहाड़ बनाया जा रहा



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)