ट्विटर में छंटनी का सिलसिला जारी, अब एलन मस्क ने टॉप एग्जीक्यूटिव को नौकरी से निकाला, बताई ये वजह

एलॉन मस्क के अधिग्रहण के तुरंत बाद ट्विटर ने वैश्विक लागत-कटौती के एक हिस्से के रूप में कर्मचारियों को निकालने (Twitter Layoffs) की घोषणा की थी.

ट्विटर में छंटनी का सिलसिला जारी, अब एलन मस्क ने टॉप एग्जीक्यूटिव को नौकरी से निकाला, बताई ये वजह

Twitter Layoffs: ट्विटर ने दुनिया भर में अपने लगभग 50% कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है.

नई दिल्ली:

जब से एलन मस्क (Elon Musk) ने ट्विटर की कमान संभाली है तब से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर में छंटनी (Twitter Layoffs) का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस बीच ट्विटर के सीईओ एलन मस्क ने कहा है कि उन्होंने माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट के डिप्टी जनरल काउंसिल जेम्स बेकर (James Baker) को नौकरी से निकाल दिया है. एलन मस्क ने मंगलवार को ट्वीट करते हुए इस बात की जानकारी दी. इसको मस्क का कहना है कि उन्होंने अपनी भूमिका में रहते हुए सूचनाओं को दबाने और गलत ढंग से पेश करने का काम किया है.

आपको बता दें कि एलॉन मस्क के नेतृत्व वाले ट्विटर ने पहले ही दुनिया भर में अपने लगभग 50% कर्मचारियों को निकाल दिया है. एलॉन मस्क के अधिग्रहण के तुरंत बाद ट्विटर ने वैश्विक लागत-कटौती के एक हिस्से के रूप में कर्मचारियों को निकालने की घोषणा की थी. जिसके तहत कंपनी ने 4 नवंबर को अपने 50% कर्मचारियों यानी करीब लगभग 3700 लोगों को बर्खास्त कर दिया था.

पिछले हफ्त मस्क के साथ मिलकर जर्नलिस्ट मैट टैबी ने "ट्विटर फाइल्स" जारी किया है. यह मुख्य रूप से राजनेताओं के साथ लिंक का खुलासा करने के लिए कंपनी के अंदर हुई बातचीत का एक डॉक्यूमेंट था.जिसमें बताया गया है कि 2020 अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव तक कैसे सोशल नेटवर्क ने हंटर बाइडेन के लैपटॉप की स्टोरी को सामने आने से रोकने पर फोकस किया.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस फाइल में  आरोप लगाया गया है कि पिछले ट्विटर मैनेजमेंट ने 2020 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव से पहले हंटर बाइडेनन के लैपटॉप के बारे में रिपोर्टिंग को दबाने के लिए कई कदम उठाए थे. ट्विटर फाइल्स के अनुसार, ट्विटर के डिप्टी जनरल काउंसिल जेम्स बेकर इस विषय पर चर्चा में भाग लिया कि क्या लैपटॉप की स्टोरी ट्विटर की "हैक मटेरियल" पॉलिसी के तहत आती है.

Featured Video Of The Day

बाल विवाह पर असम सरकार की कार्रवाई के खिलाफ महिलाओं का विरोध प्रदर्शन