Raksha Bandhan Shayari: 'अगर बहनें नहीं होंगी तो राखी कौन बांधेगा', भाई-बहन पर दिल छू लेने वाली शायरी

Raksha Bandhan 2020 Shayari: रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) के मौके पर भाई-बहन के इस रिश्ते को लेकर हम आपके लिए कुछ खास शायरी लेकर आए हैं, जिन्हें भाई अपनी बहन को भेजेंगे तो यह रिश्ता और प्रगाढ़ ही होगा.

Raksha Bandhan Shayari: 'अगर बहनें नहीं होंगी तो राखी कौन बांधेगा', भाई-बहन पर दिल छू लेने वाली शायरी

Raksha Bandhan 2020 Shayari: राखी (Rakhi 2020) के मौके पर बहनों के लिए दिल छू लेने वाली शायरी

खास बातें

  • भाई-बहन के प्यारे रिश्ते के लिए शानदार शायरी
  • उर्दू के शायरों ने रिश्तों को दिए दिल छू लेने वाले शब्द
  • 3 अगस्त को मनाया जा रहा है रक्षाबंधन
नई दिल्ली:

Raksha Bandhan 2020 Shayari: रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) भाई-बहन के प्यार का त्योहार है और इस साल ये 3 अगस्त (3 August) को आ रहा है. रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2020) के दिन बहनें भाई की कलाई पर राखी (Rakhi 2020) बांधती हैं और उसकी मंगल कामना करती हैं. रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) को हर साल श्रावण  मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है. बदलते दौर के साथ राखी (Rakhi) के मौके पर गिफ्ट (Rakhi Gift) देने का चलन भी बदला है और अब व्हॉट्सऐप मैसेज और अन्य सोशल मीडिया माध्यमों के इस्तेमाल से भी मैसेज भेजे जाते हैं. लेकिन भाई-बहन के बहुत ही प्यारे से रिश्ते पर शायरों ने भी कमाल की शायरी लिखी है और इस रिश्ते की खूबसूरती को शानदार ढंग से शब्दों में पिरोया है. रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) के मौके पर भाई-बहन के इस रिश्ते को लेकर हम आपके लिए कुछ खास शायरी लेकर आए हैं, जिन्हें भाई अपनी बहन को भेजेंगे तो यह रिश्ता और प्रगाढ़ ही होगा... 


या रब मिरी दुआओं में इतना असर रहे
फूलों भरा सदा मिरी बहना का घर रहे
अज्ञात

याद आई जब मुझे 'फ़रहत' से छोटी थी बहन
मेरे दुश्मन की बहन ने मुझ को राखी बाँध दी
एहसान साक़िब


ज़िंदगी भर की हिफ़ाज़त की क़सम खाते हुए
भाई के हाथ पे इक बहन ने राखी बांधी
अज्ञात

किसी के ज़ख़्म पर चाहत से पट्टी कौन बांधेगा
अगर बहनें नहीं होंगी तो राखी कौन बाँधेगा
मुनव्वर राना


बहनों की मोहब्बत की है अज़्मत की अलामत
राखी का है त्यौहार मोहब्बत की अलामत
मुस्तफ़ा अकबर

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बहन का प्यार जुदाई से कम नहीं होता
अगर वो दूर भी जाए तो ग़म नहीं होता
अज्ञात