Rose Day Shayari: लोग कांटों से बच के चलते हैं, मैंने फूलों से जख्म खाए हैं...फूल नहीं शायरी से दिल जीतें

Rose Day Shayari: वैलेंटाइन्स डे हर साल 14 फरवरी (Valentine's Day 14 February) को आता है. 7 फरवरी से वैलेंटाइन वीक (Valentine Week) दस्तक दे चुका है. 7 फरवरी को रोज डे (Rose Day Shayari) है.

Rose Day Shayari: लोग कांटों से बच के चलते हैं, मैंने फूलों से जख्म खाए हैं...फूल नहीं शायरी से दिल जीतें

Happy Rose Day 2021: (प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली:

Rose Day Shayari: वैलेंटाइन्स डे हर साल 14 फरवरी (Valentine's Day 14 February) को आता है. 7 फरवरी से वैलेंटाइन वीक (Valentine Week) दस्तक दे चुका है. 7 फरवरी को रोज़ डे (Rose Day) मनाया जाता है. बॉलीवुड में गुलाब (Happy Rose Day) का फूल इश्क के इजहार का हिट और पॉपुलर तरीका है. टूटे दिल को जोड़ना हो या फिर प्यार का पहला इजहार हो, गुलाब का नशा ही अलग है. गुलाब (Rose Day 2021) पर बॉलीवुड फिल्में में कई सुपरहिट गीत बने हैं. जिसमें 'मिले न फूल तो कांटों से दोस्ती (Friendship) कर ली' जोरदार सॉन्ग है, जो इश्क और दिल टूटने के दर्द को बखूबी बयां भी करता है. रोज़ डे 2021 (Rose Day 2021) पर उर्दू के मशहूर शायरों की ऐसा इश्किया शायरी (Romantic Shayari) लेकर आए हैं, जिनमें गुलाब के साथ कांटों का भी जिक्र है.

बता दें कि वैलेंटाइन वीक (Velentine Week) की शुरुआत 7 फरवरी से होती है. पहला दिन रोज़ डे (Rose Day) होता है. 8 फरवरी को प्रपोज डे (Propose Day) होता है. 9 फरवरी को चॉकलेट डे (Chocolate day), 10 फरवरी को टेडी डे (Teddy Day), 11 फरवरी को प्रॉमिस डे (Promise Day), 12 फरवरी को हग डे (Hug Day), 13 फरवरी को किस डे (Kiss Day) और 14 फरवरी को वैलेंटाइन्स डे (Valentine's Day) आता है.

Valentine Week: रोज डे (Rose Day 2021) पर मशहूर शायरी...

अगरचे फूल ये अपने लिए ख़रीदे हैं
कोई जो पूछे तो कह दूंगा उस ने भेजे हैं
इफ्तिखार नसीम

कांटों से दिल लगाओ जो ता-उम्र साथ दें
फूलों का क्या जो सांस की गर्मी न सह सकें
अख्तर शीरानी

लोग कांटों से बच के चलते हैं
मैंने फूलों से जख्म खाए हैं
अज्ञात

फूलों की ताज़गी ही नहीं देखने की चीज़
कांटों की सम्त भी तो निगाहें उठा के देख
असअ'द बदायुनी

हम ने कांटों को भी नरमी से छुआ है अक्सर
लोग बेदर्द हैं फूलों को मसल देते हैं
अज्ञात


आज भी शायद कोई फूलों का तोहफा भेज दे
तितलियां मंडला रही हैं कांच के गुल-दान पर
शकेब जलाली

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


कुछ ऐसे फूल भी गुजरे हैं मेरी नजरों से
जो खिल के भी न समझ पाए जिंदगी क्या है
आजाद गुलाटी