Anna Hazare कृषि कानूनों के खिलाफ अनशन से पीछे हटे, तो बॉलीवुड डायरेक्टर बोले- उनको समर्थन देना मेरी गलती...

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे (Anna Hazare) अब कृषि कानूनों के खिलाफ अनशन नहीं करेंगे. इस खबर पर बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर हंसल मेहता (Hansal Mehta) ने ट्वीट किया है.

Anna Hazare कृषि कानूनों के खिलाफ अनशन से पीछे हटे, तो बॉलीवुड डायरेक्टर बोले- उनको समर्थन देना मेरी गलती...

हंसल मेहता (Hansal Mehta) ने अन्ना हजारे (Anna Hazare) को लेकर किया ट्वीट

नई दिल्ली:

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे (Anna Hazare) ने घोषणा की थी कि वह केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ शनिवार को महाराष्ट्र में अपने गांव रालेगन सिद्धि में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू करेंगे. हालांकि महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी से मुलाकात के बाद अन्ना हजारे (Anna Hazare) ने अपने अनशन को टालने का ऐलान कर दिया. इस खबर पर बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर हंसल मेहता (Hansal Mehta) ने ट्वीट कर रिएक्शन दिया है. उनका ट्वीट खूब पढ़ा जा रहा है.

वरुण धवन और नताशा दलाल का घर है काफी आलीशान, Video में देखें घर की खूबसूरती

हंसल मेहता (Hansal Mehta) ने अपने ट्वीट में लिखा: "मैंने विश्वास के साथ अन्ना हजारे को सपोर्ट किया था, जैसे अरविंद को किया था. मुझे इस बात का दुख या पछतावा नहीं है. हम सभी गलतियां करते हैं. मैंने भी 'सिमरन' बनाई थी." हंसल मेहता ने इस तरह अपने ट्वीट के जरिए यह कहने की कोशिश की है कि अन्ना हजारे (Anna Hazare) के आंदोलन को अपना समर्थन देना उनकी गलती थी. हंसल मेहता के इस ट्वीट पर खूब रिएक्शन आ रहे हैं.

Malaika Arora ने जिम में इस अंदाज में किया हार्ड वर्कआउट, बोलीं- नो पेन नो गेन...देखें Video


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि अन्ना हजारे (Anna Hazare) से मुलाकात कर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने उन्हें सरकार द्वारा उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों पर आश्वासन दिया था. हजारे ने अनशन को लेकर कहा था: "किसानों को लेकर केंद्र कतई संवेदनशील नहीं है, इसीलिए मैं 30 जनवरी से अपने गांव में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर रहा हूं." उन्होंने अपने समर्थकों से अपील भी की था कि वे कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए अहमदनगर जिले में स्थित उनके गांव में एकत्र नहीं हों." उल्लेखनीय है कि केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं.