शिक्षा मंत्री ने कहा, अब CBSE छात्रों के 45 साल के रिकॉर्ड को डिजिटल करेगा बोर्ड

सीबीएसई छात्रों के 45 साल के रिकॉर्ड को डिजिटल किया जाएगा. जिसमें छात्रों के मार्क्स से जुड़ी पूरी जानकारी होगी.

शिक्षा मंत्री ने कहा, अब CBSE छात्रों के 45 साल के रिकॉर्ड को डिजिटल करेगा बोर्ड

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक

नई दिल्ली:

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने CBSE सहोदया स्कूलों के अध्यक्षों और सचिवों के साथ लाइव बातचीत के दौरान बताया कि सीबीएसई छात्रों के 45 साल के रिकॉर्ड को डिजिटल किया जाएगा.  जिसमें छात्रों के मार्क्स से जुड़ी पूरी जानकारी होगी.

इसी के साथ उन्होंने बताया, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं के लिए बोर्ड परीक्षा का शेड्यूल 2 फरवरी, 2021 को घोषित करेगा. कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की डेटशीट आधिकारिक वेबसाइट- cbse.gov.in पर जारी की जाएगी.


पोखरियाल निशंक ने कहा: “पिछले 45 वर्षों में दाखिला लेने वाले सभी सीबीएसई छात्रों का रिकॉर्ड डिजिटल किया जाएगा। इससे 1975 के बाद दाखिला लेने वाले नागरिकों को आसानी से प्रमाण पत्र प्राप्त करने में मदद मिलेगी. ”

डिजिलॉकर में सेव होती है मार्कशीट

डिजिलॉकर ऐप  (Digital Locker) एक डिजिटल प्लेटफॉर्म है. जिसमें सभी प्रकार के सेव डॉक्यूमेंट्स को मान्य माना जाता है. डिजीलॉकर एक तरह का वर्चुअल लॉकर है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जुलाई 2015 में लॉन्च किया था. डिजीलॉकर को डिजिटल इंडिया अभियान के तहत शुरू किया गया था. डिजीलॉकर खाता खोलने के लिए आपके पास आधार कार्ड का होना अनिवार्य है. डिजीलॉकर में देश के नागरिक पैन कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट आदि के साथ कोई भी सरकारी प्रमाण-पत्र स्टोर कर सकते हैं.

बता दें, चल रहे COVID-19 महामारी के कारण CBSE बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों को टाल दिया गया है. CBSE बोर्ड की परीक्षाएं जो आमतौर पर फरवरी या मार्च में होती हैं, अब मई में आयोजित की जाती हैं.  स्कूलों को 1 मार्च से कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं दोनों के लिए प्रैक्टिकल परीक्षाएं आयोजित करने की अनुमति दी गई है. वहीं थ्योरी के पेपर चल रहे हैं. सीबीएसई बोर्ड परीक्षा 2021, जैसा कि पहले बताया गया था, पेन-एंड-पेपर मोड में आयोजित की जाएगी.


Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com