कच्चे तेल की कीमतों में फिर से आया उछाल, पिछले सप्ताह के मुकाबले 8 फीसदी से ज्यादा बढ़े दाम

अगर वैश्विक कच्चे तेल और भारतीय क्रूड बास्केट की कीमतों में बढ़ोतरी का रुख जारी रहा, तो खुदरा विक्रेताओं को तेल की कीमतों में बढ़ोतरी करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. पिछले हफ्ते की रिपोर्टों से पता चला है कि पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए राज्यों से पेट्रोल और डीजल पर वैट में कटौती करने का आग्रह किया था.

कच्चे तेल की कीमतों में फिर से आया उछाल, पिछले सप्ताह के मुकाबले 8 फीसदी से ज्यादा बढ़े दाम

कच्चे तेल के दाम में हुई बढ़ोतरी

नई दिल्ली:

यूक्रेन और रूस के बीच तेजी होती जंग की वजह से भारत में कच्चे तेल के दाम फिर से बढ़ रहे हैं. पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसिस सेल की रिपोर्ट के अनुसार, 15 अप्रैल, 2022 को क्रूड ऑयल बास्केट की कीमत ₹ 76.22 प्रति डॉलर की विनिमय दर से बढ़कर 106.03 डॉलर प्रति बैरल हो गई. 11 अप्रैल, 2022 को (रु/$) 75.96 की विनिमय दर पर भारतीय बास्केट क्रूड की कीमत 97.82 डॉलर प्रति बैरल थी, जो तब से 8 डॉलर या 8.39 प्रतिशत की बढ़ोतरी का संकेत है. 

नई कीमत मार्च के औसत 112.87 डॉलर से नीचे है, जो कि 1 अप्रैल को 103.02 डॉलर प्रति बैरल से काफी आगे बढ़ चुकी है. कीमतों में यह उछाल, 11 अप्रैल से 15 अप्रैल के बीच डॉलर के मुकाबले रुपये में 26 पैसे की कमजोरी के साथ आया है. जो कि घरेलू ईंधन की कीमतों में इजाफे की संभावना का संकेत है. हालांकि खुदरा ईंधन की कीमतों में सोमवार को लगातार 12वें दिन कोई बदलाव नहीं हुआ है.

अगर वैश्विक कच्चे तेल और भारतीय क्रूड बास्केट की कीमतों में बढ़ोतरी का रुख जारी रहा, तो खुदरा विक्रेताओं को तेल की कीमतों में बढ़ोतरी करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. पिछले हफ्ते की रिपोर्टों से पता चला है कि पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए राज्यों से पेट्रोल और डीजल पर वैट में कटौती करने का आग्रह किया था.

ये भी पढ़ें: महंगाई की मार के बीच मारुति सुजुकी का बड़ा फैसला, आज से कार खरीदना हुआ महंगा

पेट्रोलियम मंत्रालय के सूत्रों ने 6 अप्रैल को एनडीटीवी को बताया था कि "भारतीय कच्चे तेल की कीमतें अभी ऊंचे स्तर पर बनी हुई हैं." अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत उच्चतम स्तर पर टिकी है, भारतीय क्रूड बास्केट की कीमत आज भी 104 डॉलर प्रति बैरल के आसपास है." सूत्रों ने बताया कि 'कुछ महीने पहले यह कीमत करीब 70 डॉलर से 80 डॉलर प्रति बैरल हुआ करता थी.'
 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: दिल्ली में ऑटो, टैक्सी और मिनी बस ड्राइवरों की हड़ताल, ईंधन की बढ़ती कीमतों का विरोध