NDTV Khabar

रवीश कुमार का प्राइम टाइम: बिहार की जनता ने किस बात पर दिया वोट?

 Share

चुनाव खत्म होने के अगले दिन चुनाव पर बात करना ऐसा ही लगता है जैसे दीवाली के दूसरे दिन हरी घास पर पटाखों के लाल-लाल बिखरे हुए कागज को देखकर लगता है. थकान सा लगता है कि इसे अभी साफ करें या कुछ दिन रहने दें. कहने का मतलब यह है कि नया कहने के लिए कुछ बचता नहीं है. चिराग पासवान का पटाखा भले ना फूटा हो लेकिन उससे झोले में रखे पटाखों में आग लग गयी. हालांकि कुछ पटाखे फूटने से रह गए. ऐसे समय में जब प्रदूषण के कारण पटाखों पर बैन की बात हो रही है वैसे में पटाखे को रूपक की तरह प्रयोग करना गलत हो सकता है, ठीक उसी तरह जैसे चिराग अगर नीतीश के लिए गलत हैं तो बीजेपी के लिए अच्छे कैसे हो सकते हैं?



संबंधित

Advertisement

 
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com