रद्द हुआ 150 साल पुराना एडल्ट्री क़ानून

  • 3:44
  • प्रकाशित: सितम्बर 27, 2018
सिनेमा व्‍यू
Embed
सुप्रीम कोर्ट ने व्यभिचार से जुड़े क़ानून की धारा 497 को रद्द कर दिया है. कहा कि महिला का पति उसका मालिक नहीं और महिला की गरिमा के ख़िलाफ़ जाने वाली बात संविधान नहीं सहेगा. चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा, 'कोई भी कानून जो व्यक्ति की गरिमा और महिलाओं के साथ समान व्यवहार को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है, वहा संविधान के ख़िलाफ़ है. अब ये कहने का वक़्त आ गया है कि शादी में पति, पत्नी का मालिक नहीं होता है. स्त्री या पुरुष में से किसी भी एक की दूसरे पर कानूनी संप्रभुता सिरे से गलत है.

संबंधित वीडियो

सिटी सेंटर : 'एडल्ट्री अब अपराध नहीं', मेरठ में लव जिहाद बोलकर पिटाई
सितंबर 27, 2018 10:30 PM IST 13:21
रणनीति : क्या महिलाओं को समानता का अधिकार मिला?
सितंबर 27, 2018 08:00 PM IST 15:33
सिंपल समाचार : सुप्रीम कोर्ट के दो बड़े फैसले
सितंबर 27, 2018 05:00 PM IST 13:59
सुप्रीम कोर्ट ने व्यभिचार कानून को किया रद्द, कहा- यह अपराध नहीं
सितंबर 27, 2018 09:16 AM IST 6:01
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination