अडाणी ग्रुप की मुश्किलें कम नहीं, तीन एयरपोर्ट्स पर ब्रांडिंग और लोगो मानदंडों का उल्लंघन करने का आरोप

AAI की तीन समितियों ने जनवरी में अहमदाबाद, मेंगलुरु और लखनऊ हवाईअड्डों का संचालन देखने वाले अडाणी समूह को ब्रांडिंग और लोगो मानदंडों का उल्लंघन करते हुए पाया था, जिसके बाद अडाणी समूह की कंपनियों ने ब्रांडिंग और डिस्प्ले में बदलाव करना शुरू कर दिया है.

अडाणी ग्रुप की मुश्किलें कम नहीं, तीन एयरपोर्ट्स पर ब्रांडिंग और लोगो मानदंडों का उल्लंघन करने का आरोप

Gautam Adani की एयरपोर्ट होल्डिंग कंपनी पर कई मानदंडों के उल्लंघन का आरोप लगा था.

नई दिल्ली:

केंद्र द्वारा संचालित भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (AAI) की तीन समितियों ने जनवरी में अहमदाबाद, मेंगलुरु और लखनऊ हवाईअड्डों पर अडाणी समूह (Adani Group) को ब्रांडिंग और लोगो मानदंडों का उल्लंघन करते हुए पाया. इसके बाद इन तीन हवाई अड्डों का संचालन करने वाली अडाणी समूह की कंपनियों ने ब्रांडिंग और डिस्प्ले में बदलाव करना शुरू कर दिया है, ताकि उन्हें रियायत समझौतों के अनुरूप बनाया जा सके, जिन पर उन्होंने एएआई के साथ हस्ताक्षर किए थे.

एएआई ने कहा कि 29 जून को लखनऊ और मंगलौर हवाईअड्डों पर ब्रांडिंग और डिस्प्ले में बदलाव की प्रक्रिया चल रही थी और अहमदाबाद हवाईअड्डे पर इसे पूरा कर लिया गया है. पीटीआई-भाषा के पास इस मामले से संबंधित विभिन्न दस्तावेज हैं, जिनमें आरटीआई प्रश्नों के जवाब में मिली जानकारी भी शामिल है.

तीन एयरपोर्टों के ऑपरेशन के लिए ग्रुप ने जीती थीं बोलियां

अडाणी समूह ने फरवरी 2019 में उपरोक्त तीन हवाई अड्डों को चलाने के लिए बोलियां जीतीं. इसकी कंपनियों - अडाणी लखनऊ इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एएलआईएएल), अडाणी मंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एएमआईएएल) और अडाणी अहमदाबाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एएआईएएल) ने फरवरी 2020 में एएआई के साथ रियायत समझौते पर हस्ताक्षर किए. इन कंपनियों ने अक्टूबर और नवंबर 2020 में हवाईअड्डों का कार्यभार संभाला.

गौतम अडाणी की कंपनियों के आए बुरे दिन! SEBI की जांच के बीच आज अरबपति के शेयरों को हुआ इतना नुकसान

एएआई ने दिसंबर 2020 में तीन हवाईअड्डों पर ब्रांडिंग और डिस्प्ले को रियायत समझौतों के अनुसार नहीं पाया. इसलिए तीनों कंपनियों को पत्र लिखकर ‘सुधारात्मक उपाय' करने के लिए कहा. हालांकि, इन कंपनियों ने दिसंबर के अंत में जवाब दिया कि उन्होंने समझौतों के तहत ब्रांडिंग मानदंडों का उल्लंघन नहीं किया है. इसके एक महीने बाद एएआई ने तीनों हवाई अड्डों पर सभी होर्डिंग और डिस्प्ले का संयुक्त सर्वेक्षण करने के लिए तीन अलग-अलग समितियों का गठन किया.

प्रत्येक समिति में चार सदस्य थे- अडाणी समूह की कंपनी का एक कार्यकारी, जो हवाई अड्डे का संचालन कर रहा है, केंद्र द्वारा संचालित इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट्स (इंडिया) लिमिटेड का एक अधिकारी और एएआई के दो अधिकारी. समिति में अपनी जांच में पाया कि समझौते की शर्तों का उल्लंघन किया गया है.

गौतम अडाणी की कंपनी ने संभाल लिया मुंबई हवाईअड्डे का मैनजमेंट, बनी देश की सबसे बड़ी एयरपोर्ट इन्फ्रा कंपनी

उल्लंघन की बात के बाद किया गया बदलाव


इस बारे में पीटीआई-भाषा ने अडाणी समूह से पूछा कि क्या वह इन तीन समितियों के निष्कर्षों से सहमत है और क्या उसने तीनों हवाईअड्डों पर डिस्प्ले और ब्रांडिंग को बदलने का काम पूरा कर लिया है. इसके जवाब में अडाणी समूह के प्रवक्ता ने कहा, ‘हमें एएआई के साथ साझेदारी करने पर गर्व है... एएआई और अडाणी एयरपोर्ट के बीच हवाईअड्डों पर साझा-ब्रांडिंग और अन्य पहलुओं पर आपसी सहमति है.' उन्होंने आगे कहा कि समझौते के अनुसार प्राधिकरण और परिचालक दोनों के लोगो एक साथ समान आकार में प्रदर्शित किए जाएंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एक आरटीआई के जवाब में एएआई ने कहा कि लखनऊ और मेंगलुरू हवाईअड्डों पर ब्रांडिंग और होर्डिंग में बदलाव किए जा रहे हैं, जबकि अहमदाबाद हवाईअड्डे पर ब्रांडिंग और होर्डिंग समझौते के शर्तों के अनुसार हैं.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)