MP: दलित दूल्हा को दबंगों ने घोड़ी चढ़ने से रोका, पुलिस सुरक्षा में हाथ में संविधान की किताब ले निकली बारात

दलित दूल्हे राहुल मेघवाल ने बताया कि दबंगों ने उसके परिजनों को धमकी दी थी कि अगर बारात  घोड़ी पर निकाली तो 1 साल में गांव छोड़ना पड़ जाएगा. इसके बाद उनके पिता ने जिला कलेक्टर को आवेदन दिया तो पुलिस अधिकारियों ने आकर बिंदोली निकलवाई.

MP: दलित दूल्हा को दबंगों ने घोड़ी चढ़ने से रोका, पुलिस सुरक्षा में हाथ में संविधान की किताब ले निकली बारात

बारात निकालने से पहले करीब 100 पुलिसकर्मियों ने गांव में फ्लैग मार्च किया.

नीमच :

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के नीमच जिले के एक गांव में एक दलित युवक को पुलिस के साए में बारात निकालनी पड़ी. इसके पीछे की वजह दबंगों की धमकी बताई गई है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि मनासा थाना क्षेत्र के सारसी गांव में दबंगों ने दलित दूल्हे को घोड़ी पर चढ़कर बारात नहीं निकालने की धमकी दी थी. इसकी शिकायत मिलने पर पुलिस अधिकारियों ने गांव में पहुंचकर DJ बजाकर धूमधाम से बारात निकलवाई. 

बारात निकालने से पहले करीब 100 पुलिसकर्मियों ने गांव में फ्लैग मार्च किया, फिर बारात को सुरक्षा देते हुए उसे गांव से निकाला. इस दौरान लोग डर के साए में भी झूमते और नाचते दिखे. दूल्हा भी घोड़ी पर हाथ में संविधान की प्रति लेकर बैठा था. यह वाकया गणतंत्र दिवस के अगले दिन हुआ.  

प्राप्त जानकारी के अनुसार मनासा से लगभग 3 किमी दूर स्थित ग्राम सरसी के फकीरचंद मेघवाल ने कुछ समय पहले जिला कलेक्टर को आवेदन देकर बेटे राहुल की शादी में दबंगों द्वारा माहौल खराब करने से संबंधित शिकायत दर्ज कराई थी. इस पर कलेक्टर ने पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया था कि दलित परिवार को सुरक्षा प्रदान की जाय.

मध्य प्रदेश के भिंड में सरकारी अस्पताल में 5000 की रिश्वत नहीं दे पाई मां, नवजात की मौत

गुरूवार को जब राहुल की बिंदौली (बारात) निकली तो समूचे गांव में तीन थानों की पुलिस मौजूद थी. पुलिस बल ने बिंदौली से पहले गांव में फ्लैग मार्च निकाला. इसके बाद पुलिस अधिकारियों और जवानों की मौजूदगी में बिंदौली निकली. इस दौरान तहसीलदार, एसडीओपी, एसडीएम सहित तमाम अधिकारी मौजूद रहे.

दलित दूल्हे राहुल मेघवाल ने बताया कि दबंगों ने उसके परिजनों को धमकी दी थी कि अगर बारात  घोड़ी पर निकाली तो 1 साल में गांव छोड़ना पड़ जाएगा. इसके बाद उनके पिता ने जिला कलेक्टर को आवेदन दिया तो पुलिस अधिकारियों ने आकर बिंदोली निकलवाई.

Ground Report: मध्‍यप्रदेश में सरकारी दफ्तरों में धूल फांकती रहीं किताबें, बिना पढ़ाई परीक्षा देने को मजबूर बच्‍चे...
 
भीम आर्मी के सदस्य सुनील ने बताया कि दूल्हे राहुल मेघवाल से जानकारी मिलने के बाद यहां पहुंचे.  सुनील ने कहा कि समाज में जातिवाद की जड़े इतनी गहरी हैं कि कोई ऊंची जाति का शख्स नहीं चाहता कि कोई दलित का लड़का या आदिवासी का लड़का घोड़ी पर बैठकर गांव से बारात निकाले. उन्होंने कहा कि एक ओर भारत के विश्व गुरु बनने की बात की जाती है लेकिन दूसरी तरफ आप देखिए यहां हालात कैसे हैं.

मनासा के थाना प्रभारी के एल डांगी ने कहा कि दलित परिवार द्वारा आशंका जताई गई थी कि बिंदोली निकालने में विरोध हो सकता है, जिस पर पुलिस तथा प्रशासन द्वारा सारी व्यवस्था की गई और शांति पूर्वक बिंदोली निकाली गई. उन्होंने बताया कि इसमें गांव वालों ने भी सहयोग किया. गांव के पटेलों से भी बात हुई है जिनका कहना है कि गांव में सब लोग शांति से रहते हैं, ऐसी कोई बात नहीं है.

पहरे में "सेहरा"! मध्‍यप्रदेश में अनुसूचित जाति का दूल्‍हा चढ़ा घोड़ी, लोधी समाज के लोगों ने गांव पर कर दिया हमला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


26 जनवरी को बड़ी धूमधाम से पूरे देश में गणतंत्र दिवस मनाया गया और उम्मीद जताई गई किडॉक्टर भीमराव अंबेडकर द्वारा बनाए गए भारत के संविधान का पूरी तरह से पालन हो लेकिन नीमच जिले के मनासा क्षेत्र के सारसी गांव जिस तरह पुलिस और अधिकारियों का अमला मौजूद था, उससे साफ झलकता है कि इस इलाके में दलितों की क्या स्थिति है? वैसे यह पहला मामला सामने आया है जिसमें दूल्हा अपने हाथ में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की लिखी भारत का संविधान की पुस्तक पकड़कर घोड़ी पर बैठा था और आगे पीछे चारों ओर उसकी सुरक्षा में पुलिस और प्रशासन चल रहा था.