पति की हत्या के आरोप में पत्नी, नाबालिग बेटी सहित चार गिरफ्तार

दक्षिण दिल्ली के मैदान गढ़ी इलाके में पति की हत्या के आरोप में 36 वर्षीय पत्नी, उसकी नाबालिग बेटी और दो अन्य व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है.

पति की हत्या के आरोप में पत्नी, नाबालिग बेटी सहित चार गिरफ्तार

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

दक्षिण दिल्ली के मैदान गढ़ी इलाके में पति की हत्या के आरोप में 36 वर्षीय पत्नी, उसकी नाबालिग बेटी और दो अन्य व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने शनिवार को बताया कि आरोपियों की पहचान डेरा गांव की रहने वाली सरिता तंवर और गाजियाबाद के लोनी निवासी उसके दोस्त मनोज (22) के रूप में हुई है. सरिता की नाबालिग बेटी और लड़की के स्कूल में पढ़ने वाले दोस्त को भी पकड़ लिया गया. पुलिस के अनुसार सभी चार व्यक्ति घटना में शामिल थे.

उन्होंने बताया कि दो जुलाई को भाटी गांव के पास महाबली पुरम में एक नाले से एक व्यक्ति का क्षत विक्षत शव बरामद किया गया था. पुलिस ने शव पर ''एसटी'' नाम का एक टैटू देखा. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि घटनास्थल से करीब एक किलोमीटर दूर एक लावारिस कार भी मिली. कार के मालिक का पता लगाने पर मृतक की पहचान डेरा गांव के निवासी महेन्द्र उर्फ ​​संजय के रूप में की गई.


अधिकारी ने बताया कि जांच के दौरान मृतक के भाई ने बताया कि महेंद्र टैक्सी चलाता था. वह बुकिंग लेने के लिए बाहर गया, लेकिन वापस नहीं लौटा. अधिकारी ने जब महेंद्र की पत्नी से पूछा, तो उसने कहा कि उसका फोन बंद है और वह एक जुलाई से ही वापस नहीं लौटा है. महेंद्र के भाई ने यह भी बताया कि मनोज नाम का व्यक्ति उसके घर आया करता था और दंपति में इसे लेकर झगड़ा होता था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने बताया, “पुलिस ने मनोज से पूछताछ की जिसने अपना अपराध कबूल कर लिया. उनके कहने पर सरिता को भी पकड़ लिया गया.'' पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) अतुल कुमार ठाकुर ने कहा कि मृतक की बेटी और उसके स्कूल के दोस्त को भी पकड़ लिया गया था. पूछताछ में पता चला कि मनोज पिछले आठ से नौ महीनों से सरिता का करीबी दोस्त था. वे मिलते थे और महेंद्र इसके बारे में जानता था. उन्होंने कहा कि मृतक अपनी पत्नी और बेटी के साथ कथित तौर पर मारपीट करता था. मनोज ने इससे नाराज होकर उसे मारने की योजना बनाई. 30 जून को जब मनोज, महेंद्र के घर पहुंचा तो महेंद्र नशे में धुत था. आरोपियों ने महेंद्र का गला घोंट कर मार दिया. बाद में उन्होंने महेंद्र की कार में शव लाद कर नाले में फेंक दिया.