आखिर क्यों नीतीश कुमार ने केंद्र की नई शिक्षा नीति पर अपनी राय देने से मना कर दिया?

नीतीश ने कहा- राज्य में बाढ़ और सूखा की स्थिति काफ़ी विषम, हालात की मॉनिटरिंग फ़िलहाल पहली प्राथमिकता

आखिर क्यों नीतीश कुमार ने केंद्र की नई शिक्षा नीति पर अपनी राय देने से मना कर दिया?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो).

पटना:

केंद्र सरकार ने अपनी प्रस्तावित नई शिक्षा नीति पर राज्यों के मुख्यमंत्री से राय जानी है. उन्हें अपने विचार से केंद्र सरकार को एक हफ़्ते के अंदर अवगत कराना है. लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फ़िलहाल एक पत्र लिखकर इस मुद्दे पर अपनी राय देने में असमर्थता ज़ाहिर की है.


यह बात ख़ुद नीतीश कुमार ने बिहार विधानसभा में शुक्रवार को कही. उन्होंने कहा कि अभी विधानसभा सत्र, बाढ़ और सूखा के कारण फ़िलहाल उनके पास इस मुद्दे पर अधिकारियों के साथ बैठक कर केंद्र के द्वारा भेजे गए मसौदे पर विमर्श करने का समय नहीं है. इसलिए उन्होंने केंद्र को पत्र लिखकर इस मुद्दे पर और समय मांगा है. हालांकि नीतीश कुमार ने साफ़ नहीं किया तो उन्होंने और कितना समय मांगा है या कब तक वे अपनी राय से केंद्र को अवगत करा देंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


फिलहाल उन्होंने एक सप्ताह की जो डेडलाइन दी गई थी उसके अंदर जवाब देने में अपनी असमर्थता ज़ाहिर की है. नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने केंद्र का पत्र देखा है, लेकिन इस शिक्षा नीति के बारे में न तो फिलहाल समय है और न ही प्राथमिकता क्योंकि राज्य में बाढ़ और सूखा दोनों की स्थिति काफ़ी विषम है. दोनों फ़्रंट पर स्थिति सुधरने के बजाए बिगड़ती जा रही है, जिसकी मॉनिटरिंग फ़िलहाल बड़ी प्राथमिकता है.