मध्य प्रदेश के रिटायर्ड इंजीनियर ने CM शिवराज चौहान को दी 'धमकी', मांगा कैबिनेट मंत्री का पद, कहा - आपके पास तीन दिन हैं, वरना...

मध्य प्रदेश में एक शख्स ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखकर राज्य सरकार की कैबिनेट में मंत्री का पद मांगा है. उसने यह भी मांग रखी है कि मुख्यमंत्री अपने कैबिनेट के उन 14 मंत्रियों को बाहर निकालें, जो विधानसभा के सदस्य नहीं हैं.

मध्य प्रदेश के रिटायर्ड इंजीनियर ने CM शिवराज चौहान को दी 'धमकी', मांगा कैबिनेट मंत्री का पद, कहा - आपके पास तीन दिन हैं, वरना...

शिवराज ने कैबिनेट में गैर-विघायक मंत्रियों को दी है जगह. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • बालचंद वर्मा नाम के शख्स ने लिखी चिट्ठी
  • कैबिनेट में मांगा मंत्री पद
  • वर्ना 14 मंत्रियों को निकालने की रखी शर्त
भोपाल:

मध्य प्रदेश में एक दिलचस्प मामला सामने आया है. यहां पर एक शख्स ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखकर राज्य सरकार की कैबिनेट में मंत्री का पद मांगा है. उसने यह भी मांग रखी है कि मुख्यमंत्री अपने कैबिनेट के उन 14 मंत्रियों को बाहर निकालें, जो विधानसभा के सदस्य नहीं हैं. बालचंद वर्मा नाम के शख्स ने मुख्यमंत्री के सामने यह चिट्ठी लिखकर मांग रखी है. उसने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि ऐसे बहुत से लोगों को मंत्री बनाया गया है, जो विधानसभा में विधायक नहीं है, ऐसे में उसे भी मंत्री का पद दिया जाए.

चिट्ठी में इस शख्स का कहना है, 'हाल ही में हुए कैबिनेट के विस्तार में ऐसे 14 लोगों को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है, जो वर्तमान विधानसभा के सदस्य भी नहीं हैं और आम नागरिक हैं. इसके पहले आपके 2013 और 2018 के मुख्यमंत्री काल में ऐसे पांच लोगों को कैबिनेट मंत्री बनाया गया था, जो विधायक नहीं थे.' इस तर्क के साथ वर्मा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उसे यह चिट्ठी मिलने के तीन दिनों के भीतर कैबिनेट मंत्री का पद देने और कोई पोर्टफोलियो असाइन करने का आग्रह किया है. 

बालचंद वर्मा ने अपनी चिट्ठी में यह भी कहा है कि अगर उसे कैबिनेट में रखा जाता है तो उसे मंत्रियों को मिलने वाले वेतन में भी दिलचस्पी नहीं है. उसने लिखा है कि अगर उसे मंत्री पद नहीं दिया जाता है तो कैबिनेट से उन 14 मंत्रियों को भी निकाला जाए. 

चिट्ठी में आखिर में लगभग धमकी भरे अंदाज में कहा गया है कि अगर उसकी दोनों में से एक भी शर्त नहीं मानी गई तो आगे कुछ बुरा हुआ तो उसके जिम्मेदार मुख्यमंत्री खुद होंगे.

बता दें कि शिवराज सिंह चौहान ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है. अभी 2 जुलाई कोई ही भोपाल के राजभवन में गवर्नर आनंदीबेन पटेल ने 28 मंत्रियों को पद की शपथ दिलाई है. कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद 23 मार्च को मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद शिवराज सिंह अब तक इसे मिलाकर दो बार कैबिनेट विस्तार कर चुके हैं. इसके पहले अप्रैल में उन्होंने पांच मंत्रियों को कैबिनेट में शामिल किया था. 

Video: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : सरकार शिवराज की, दबदबा सिंधिया का

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com